Bhopal News Today

Bhopal News

 

मुख्यमंत्री ने कोलांस नदी में श्रमदान कर महाअभियान की शुरूआत की

श्रमदान में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री तथा अन्य

श्रमदान में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री तथा अन्य

भोपाल : सोमवार, अप्रैल 30, 2018,  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भू-जल स्तर निरंतर गिर रहा है। इसे रोकने के लिये प्रदेश में जन-सहयोग से जल-संरक्षण और संवर्धन का महाभियान चलाया जायेगा। पुराने तालाबों और नदियों का गहरीकरण किया जायेगा। साथ ही इस वर्ष 500 करोड़ रूपये से नये तालाबों का निर्माण किया जायेगा। इस वर्ष 15 जुलाई से वृक्षारोपण का अभियान भी शुरू होगा। श्री चौहान ने इस महती कार्य में शामिल होने के लिये संपूर्ण समाज का आव्हान किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सीहोर जिले के ईंटखेड़ी छाप में आयोजित जल-संसद को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कोलांस नदी के गहरीकरण के लिये श्रमदान का शुभारंभ भी किया। उन्होंने स्वयं श्रमदान कर लोगों को श्रमदान के लिये प्रेरित भी किया।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मनुष्य द्वारा औद्योगिकीकरण और भौतिकता की चाह में प्राकृतिक संसाधनों का अँधाधुँध दोहन किया गया है। इससे अनेक प्राकृतिक आपदाएँ उत्पन्न हुई हैं। वृक्षों की अँधाधुँध कटाई से वर्षा कम और अनियमित होने लगी है। आज पर्यावरण बिगड़ रहा है, नदियाँ सूख रही हैं और सतही जल लगातार घट रहा है। धरती पर सूखे का संकट पैदा हो रहा है। धरती की सतह का तापमान लगातार बढ़ रहा है, जो वर्ष 2050 तक दो डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जायेगा। इससे ग्लेशियर पिघलेंगे, समुद्र का जल-स्तर बढ़ेगा और बाढ़ जैसी समस्याएँ पैदा होंगी।

बेटियों को बचाने के साथ स्वस्थ बनाना भी आवश्यक

सरोजनी नायडू कन्या उ. मा. विद्यालय के पुरस्कार वितरण समारोह में राज्यपाल 

पुरुस्कार वितरित करतीं राज्यपाल तथा मंत्रीद्वय

पुरुस्कार वितरित करतीं राज्यपाल तथा मंत्रीद्वय

भोपाल : सोमवार, अप्रैल 30, 2018,  राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने शिक्षकों से कहा है कि छात्राओं की रूचि के विषयों पर अधिक ध्यान दें और उन्हें प्रोत्साहित करें। उन्होंने कहा कि मुझे यह जानकर हर्ष और प्रसन्नता होती है कि गरीबों की बच्चियाँ भी प्रतियोगिता परीक्षा में उच्च स्थान प्राप्त कर रही है। कन्या शिक्षा का समाज और देश के विकास को नई दिशा देने में महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि छात्राओं की प्रतिभा को उभारने के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जाना चाहिए। राज्यपाल श्रीमती पटेल आज सरोजनी नायडू कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पुरस्कार वितरण कर रही थी।

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि बेटियों को बचाना ही काफी नहीं है। उनके स्वास्थ्य पर भी ध्यान देना जरूरी है। इसके लिए विद्यालयों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर सम्पूर्ण जाँच कराई जाए।

राज्यपाल ने कहा कि छात्राओं को शिक्षा देने के साथ सांस्कृतिक और अन्य कार्यक्रम और गतिविधियाँ संचालित कर उनका शैक्षणेत्तर ज्ञान बढ़ाने का भी प्रयास किया जाये। उन्हें प्रदेश के पयर्टन एवं ऐतिहासिक स्थलों का भ्रमण कराया जाये। विद्यालयों में होने वाले कार्यक्रमों का संचालन छात्राओं से ही कराया जाये, इससे उनका मनोबल बढ़ेगा और वे कुछ नया सीख सकेंगी।

स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने कहा कि छात्राएँ देश का भविष्य हैं। देश और प्रदेश का विकास और सामाजिक उन्नति उनके कंधे पर है। इनमें से कोई डाक्टर, इंजीनियर बनकर देश और समाज की सेवा करेगी। उन्होंने कहा कि आगे से अतिथियों का स्वागत पुस्तकें भेंट कर किया जायेगा। नये सत्र से स्कूल परिसर में नया शेड बनाया जायेगा। कक्षा में उपस्थिति के समय बच्चे जय-हिंद बोलें, इससे उनमें राष्ट्रभक्ति की भावना जागृत होगी।

इलाज सभी का बुनियादी अधिकार है – मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री द्वारा नव अर्पण लोक शिक्षण संस्थान का लोकार्पण

शुभारंभ करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, साथ में हैं मंत्री उमाशंकर गुप्ता तथा विधायक रामेश्वर शर्मा

शुभारंभ करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, साथ में हैं मंत्री उमाशंकर गुप्ता तथा विधायक रामेश्वर शर्मा

भोपाल : सोमवार, अप्रैल 30, 2018 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रोटी-कपड़ा और मकान के साथ इलाज सभी का बुनियादी अधिकार है। इसके लिये मध्यप्रदेश सरकार पूरी तरह प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएँ देने वाले निजी अस्पतालों को भी सुविधा दी जायेगी। साथ ही आयुष्मान भारत के अंतर्गत स्वास्थ्य बीमा योजना का संचालन मध्यप्रदेश में ट्रस्ट द्वारा किया जायेगा। मुख्यमंत्री आज यहाँ निजी क्षेत्र के नव अर्पण लोक शिक्षण संस्थान का शुभारंभ कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने आम-आदमी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाए मुहैया कराने के लिये आयुष्मान भारत योजना शुरू की है। इस अभूतपूर्व स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतर्गत लगभग 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक के नि:शुल्क उपचार की सुविधा मिलेगी। प्रदेश में इस योजना का संचालन किसी बीमा कंपनी के द्वारा नहीं बल्कि ट्रस्ट द्वारा किया जायेगा। इस योजना में 60 प्रतिशत राशि केन्द्र सरकार द्वारा और 40 प्रतिशत राशि राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध करवायी जायेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने चिकित्सा तकनीशियनों के प्रशिक्षण के लिये नव अर्पण लोक शिक्षण संस्थान को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इससे जहाँ प्रदेश को कुशल चिकित्सा तकनीशियन मिलेंगे वहीं दूसरी ओर प्रशिक्षित युवाओं को रोजगार भी मिलेगा।

राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि प्रशिक्षित तकनीशियनों के उपलब्ध होने से स्वास्थ्य सेवाएँ उपलब्ध करवाने में सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने हर वर्ग के कल्याण के लिये ठोस कार्यक्रम बनाये हैं।

डीम्ड यूनिवर्सिटी बनने से विंध्य अंचल में तकनीकी शिक्षा को मिलेगी नई दिशा

बच्चों के साथ ग्रुप फोटो में शामिल मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल

बच्चों के साथ ग्रुप फोटो में शामिल मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल

भोपाल : रविवार, अप्रैल 29, 2018 उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि इंजीनियरिंग कॉलेज, रीवा के डीम्ड यूनिवर्सिटी बन जाने से विंध्य अंचल में तकनीकी शिक्षा के स्तर में गुणात्मक सुधार आयेगा। साथ ही इंजीनियरिंग कॉलेज का विस्तार भी होगा। श्री शुक्ल आज रीवा में छात्रछात्राओं को संबोधित कर रहे थे। हाल ही में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इंजीनियरिंगकॉलेज रीवा को डीम्ड यूनिवर्सिटी बनाने की घोषणा की थी। श्री शुक्ल ने कहा कि यूनिवर्सिटी पूरी तरह से स्वशासी होगी और इसमें नये कोर्स शुरू होंगे। उद्योग मंत्री ने कहा कि इंजीनियरिंग कॉलेज के विस्तार के लिए परिसर में जमीन तथा अन्य संसाधन भी उपलब्ध है। श्री शुक्ल ने मुख्यमंत्री श्री चौहान का इस घोषणा के लिए आभार भी माना।

स्कूली विद्यार्थियों का गणित समर केम्प आंचलिक विज्ञान केन्द्र में

कार्यशाला में हिस्सा लेते बच्चे

कार्यशाला में हिस्सा लेते बच्चे

भोपाल : रविवार, अप्रैल 29, 2018,  प्रदेश के सरकारी विद्यालयों के गणित विषय के मेधावी विद्यार्थियों का भोपाल के श्यामला हिल्स स्थित आंचलिक विज्ञान केन्द्र में गणित समर केम्प चल रहा है। केम्प एक मई तक जारी रहेगा। केम्प में प्रदेश के हर जिले से एक मेधावी विद्यार्थी सहभागिता कर रहा है। यह वे विद्यार्थी हैं, जिन्होंने जूनियर गणित ओलम्पियाड में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त किया था।

प्रदेश में वर्ष 2017-18 में सरकारी विद्यालयों के विद्यार्थियों में गणित विषय में रुचि जागृत करने के मकसद से जूनियर ओलम्पियाड का आयोजन किया गया था। राज्य शिक्षा केन्द्र ने इसी उद्देश्य को आगे बढ़ाते हुए आंचलिक विज्ञान केन्द्र, भोपाल के सहयोग से गणित समर केम्प ‘खुशी जोड़ों-तनाव घटाओ” का आयोजन किया है। पाँच दिवसीय केम्प में प्रदेश के विभिन्न अंचलों से आये बच्चे प्रतिदिन गणित के नये-नये प्रयोगों से परिचित हो रहे हैं और मनोरंजन के साथ गणित विषय में दक्षता प्राप्त कर रहे हैं। केम्प की खास बात यह है कि गणित शब्द की संरचना भी गणितीय चिन्हों से तैयार की गई है। इसका मकसद बच्चों को गणित विषय में विचारशील बनाने के साथ-साथ गणितीय चिन्हों से मित्रता कराना भी है।

शिक्षा आत्म-निर्भर और उद्यमी बनाने का माध्यम – राष्ट्रपति श्री कोविन्द

उपाधि वितरण करते राष्ट्रपति

उपाधि वितरण करते राष्ट्रपति

भोपाल : शनिवार, अप्रैल 28, 2018, राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द ने कहा है कि शिक्षा केवल ज्ञानार्जन और नौकरी पाने का साधन मात्र नहीं है, इससे विद्यार्थी आत्म-निर्भर और उद्यमी बने। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय सामाजिक और आर्थिक सशक्तिकरण के स्रोत के रूप में है। इसलिये शिक्षा समावेशी, सुलभ और गुणवत्तापूर्ण होनी चाहिए। राष्ट्रपति श्री कोविन्द आज सागर में डॉ. हरिसिंह गौर केन्द्रीय विश्वविद्यालय के 27वें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रपति श्री कोविन्द ने कहा कि आज चरित्र निर्माण और जीवन मूल्यों से ओतप्रोत शिक्षा पद्धति की जरूरत है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के प्रसार के लिए केन्द्र और राज्य सरकारें मिलकर बेहतर काम कर रहीं हैं। युवा आधुनिक शिक्षा पद्धति से शिक्षित और दीक्षित होकर अब नौकरी तलाशने वाले नहीं बल्कि नौकरी देने वाले बनें।

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि विद्यार्थी विद्या प्राप्ति को सिर्फ नौकरी पाने का माध्यम नहीं समझें। वे ज्ञान-अर्जन कर तेजस्वी और ओजस्वी बनें तथा अपने अर्जित ज्ञान का उपयोग सार्थक कार्यों में करते हुए समाज की उत्तरोत्तर प्रगति में सहभागी बनें।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ज्ञान प्राप्त करना बच्चों का बुनियादी अधिकार है। इसके लिए हमने ठोस योजनाएँ बनाई हैं, जिससे धन के अभाव में कोई भी बच्चा पढ़ाई से वंचित नहीं रहे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कक्षा 12वीं में 70 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों की संपूर्ण शिक्षा का खर्च शासन उठायेगा। साथ ही असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के बच्चों की कक्षा पहली से पीएचडी तक की शिक्षा का खर्च भी शासन उठायेगा। श्री चौहान ने कहा कि 67 वर्ष बाद आज पहली बार भारत के राष्ट्रपति सागर आये हैं। उन्होंने कहा कि यह हम सबके लिये बहुत ही हर्ष का पल है। हमें इसी प्रकार अपनी परंपराओं को आगे बढ़ाना चाहिए।

दीक्षांत समारोह में 356 विद्यार्थियों को उपाधि से विभूषित किया गया। विश्वविद्यालय की अध्ययन शालाओं के टॉपर रहे विद्यार्थियों को स्वर्ण-पदक प्रदान किये गये। स्वर्ण पदक विजेता 11 विद्यार्थियों में 10 छात्राएँ थीं।

उज्जैन में अंतर्राष्ट्रीय विराट गुरुकुल सम्मेलन का शुभारंभ

पुस्तक विमोचन करते अतिथिगण

पुस्तक विमोचन करते अतिथिगण

भोपाल : शनिवार, अप्रैल 28, 2018 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गुरूकुल शिक्षा पद्धति पर चिन्तन-मनन कर आज एक नये अध्याय का प्रारम्भ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आदिगुरू शंकराचार्य ने कहा है कि जो मुक्ति दिलाये, वहीं शिक्षा है।

केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि शिक्षा को और सार्थक बनाये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। गुरूकुलों एवं आधुनिक शिक्षा के बीच समन्वय करने के प्रयास किये जायेंगे। गुरूकुल शिक्षा पद्धति को उचित स्थान दिया जायेगा।

मानव संसाधन राज्य मंत्री श्री सत्यपाल सिंह ने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य क्या है, क्या वर्तमान शिक्षा पद्धति सर्वांगीण विकास कर सकती है, इस पर विचार-मंथन आवश्यक है।

मुख्य वक्ता डॉ. मोहनराव भागवत ने कहा कि वेदों, उपनिषदों का अध्ययन करना विज्ञान की प्रगति के लिये आवश्यक है। शिक्षा का अन्तिम उद्देश्य जीविका नहीं जीवन है। समग्र शिक्षा में आजीविका के साथ-साथ जीवन की शिक्षा दी जानी चाहिये। शिक्षा की गुरूकुल पद्धति शिक्षा की आत्मा है। इस बात पर भी समग्र विचार होना चाहिये कि आज के सन्दर्भ में गुरूकुल शिक्षा कैसी हो। गुरूकुल शिक्षा के कितने रूप हो सकते हैं। शिक्षा की स्वायत्तता कायम रहे, सरकार की मुखापेक्षी न रहें। गुरूकुल शिक्षा के क्षेत्र में शोध एवं अनुसंधान की प्रवृत्ति विकसित करना होगी।

सामाजिक सरोकारों से जुड़कर देश और समाज का निर्माण करें : राज्यपाल

विजेता प्रतिभागियों के साथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

विजेता प्रतिभागियों के साथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

भोपाल, शुक्रवार, अप्रैल 27, 2018. राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज ओरिएंटल ग्रुप आफ इंस्टीट्यूट्स में पुरस्कार वितरण समारोह में कहा कि सामाजिक सरोकारों से जुड़ना हम सब की जिम्मेदारी है। हम सभी को मिलकर कथनी और करनी में सामाजिक सरोकार की भावना जागृत करनी होगी तभी हम अपने लिए एक उन्नत समाज और देश का निर्माण कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि हमारा देश आज प्रौद्योगिकी, विज्ञान, शोध और अंतरिक्ष के क्षेत्र में विकासशील देशों में अग्रणी स्थान प्राप्त कर रहा है। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि अपने बच्चों को अच्छी और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाना हर माँ-बाप का सपना होता है। प्रतिस्पर्धा के इस युग में केवल शिक्षा प्राप्त करना ही सफलता की गारंटी नहीं है। इसके लिए छात्रों के कौशल विकास की ओर भी ध्यान देना जरूरी है। इसी उद्देश्य से सरकार ने स्टार्टअप योजना शुरू की है। योजना में छात्र-छात्राएँ स्वयं का रोजगार शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने छात्र-छात्राओं से कहा कि अपने भविष्य की सोचने के साथ-साथ देश के गाँववासियों, दूरदराज में रहने वालों और महिलाओं की स्थिति के बारे में भी सोचें। राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री जी का कहना है कि गाँव की छोटी-छोटी बातों पर ध्यान दिया जाये तो वहाँ बहुत बड़ा परिवर्तन आ सकता है। उनका कहना है कि भारत को बदलने के लिये ग्रामीणों की स्थिति में बदलाव लाना आवश्यक है। आज हमारे विद्यार्थियों को गाँव के लिये कुछ करने का संकल्प लेने का अवसर है।

किसानों को फसल का सही दाम दिलवाने प्रतिबद्ध है सरकार:  डॉ. नरोत्तम मिश्र 

किसानों से मिलते मंत्री डॊ. नरोत्तम मिश्रा

किसानों से मिलते मंत्री डॊ. नरोत्तम मिश्रा

भोपाल, शुक्रवार, अप्रैल 27, 2018 जनसम्पर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया कृषि उपज मंडी में पहुँचकर किसानों की फसल का सही नाप-तौल का निरीक्षण कर किसानों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि सभी किसान भाइयों को उनकी फसल का सही दाम दिलाने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने निर्देश दिये कि किसानों के लिए छायादार स्थान और पीने के पानी की समुचित व्यवस्था की जाए। जनसम्पर्क मंत्री ने कहा कि किसानों की सभी समस्याएँ हल की जायेंगी। उन्होंने कहा कि मुझे किसी भी किसान भाई की शिकायत नहीं मिलना चाहिए। शिकायत मिलने पर सख्त कार्यवाही की जायेगी। इस अवसर पर अनेक जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी ने श्रमदान किया

वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी ने भदभदा पहुंचकर बड़ी झील के गहरीकरण कार्यक्रम में श्रमदान किया। इस अवसर पर उनके साथ महापौर आलोक शर्मा और कांग्रेस नेता आरिफ मसूद मौजूद रहे।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी ने भदभदा पहुंचकर बड़ी झील के गहरीकरण कार्यक्रम में श्रमदान किया। इस अवसर पर उनके साथ महापौर आलोक शर्मा और कांग्रेस नेता आरिफ मसूद मौजूद रहे।

भोपाल, 26 अप्रैल। वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी ने भदभदा पहुंचकर बड़ी झील के गहरीकरण कार्यक्रम में श्रमदान किया। इस अवसर पर उनके साथ महापौर आलोक शर्मा और कांग्रेस नेता आरिफ मसूद मौजूद रहे। महापौर आलोक शर्मा ने राजधानी की ऐतिहासिक बड़ी झील भोजताल के गहरीकरण हेतु संरक्षण श्रमदान अभियान के तहत मंगलवार को प्रात: अनेक जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों और विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं के विद्यार्थियों के साथ बड़ी झील में श्रमदान किया। इस मौके पर महापौर आलोक शर्मा ने कहा कि जल ही जीवन है। जल को बचाना हम सबका नैतिक दायित्व है। भोपाल का बड़ा तालाब इस शहर की आत्मा है। इस शहर की धरोहर है। इसकी सुरक्षा करना हम सब जनप्रतिनिधियों और नागरिकों की जिम्मेदारी है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ को मध्य प्रदेश इकाई का अध्यक्ष और ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव प्रचार समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया 

घोषणा के बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कार्यकर्ताओं ने जमकर खुशियां मनाईं।

घोषणा के बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कार्यकर्ताओं ने जमकर खुशियां मनाईं।

भोपाल, 26 अप्रैल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ को गुरूवार को पार्टी की मध्य प्रदेश इकाई का अध्यक्ष और ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव प्रचार समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया है. राज्य में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं. पार्टी महासचिव अशोक गहलोत की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तत्काल प्रभाव से कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष और सिंधिया को चुनाव का प्रचार समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया है. कमलनाथ ने ट्विटर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) द्वारा जारी अपने नियुक्ति पत्र की कॉपी साझा करते हुए लिखा है, ‘मुझे प्रदेश अध्यक्ष के रूप में जो जिम्मेदारी सौंपी गई है उसके लिए मैं प्रतिबद्धता, साहस और आपसी तालमेल के साथ भाजपा और गैर-धर्मनिरपेक्ष ताकतों की हार सुनिश्चित करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ काम करूंगा.’ घोषणा के बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कार्यकर्ताओं ने जमकर खुशियां मनाईं।

राज्यपाल ने किया भोपाल को टीबी मुक्त बनाने में जन-सहयोग का आव्‍हान

मरीजों से मिलतीं राज्यपाल आनंदीबेन

मरीजों से मिलतीं राज्यपाल आनंदीबेन

भोपाल, बुधवार, अप्रैल 25, 2018  राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने प्रधानमंत्री द्वारा वर्ष 2022 तक देश को टी.बी मुक्त बनाने के आव्हान पर सबसे पहले राजधानी भोपाल से टी.बी मुक्त अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। योजनाबद्ध तरीके से चलाए जाने वाले इस अभियान में सबसे पहले शिशुओं और महिलाओं को इस रोग से मुक्ति दिलाने पर ध्यान दिया जाएगा। क्षय रोगी 25 बच्चों को खोजा जाएगा और उनके माता-पिता को इलाज के बारे में जानकारी दी जायेगी। इन बच्चों में से टी.बी ऐसोसिएशन के सदस्य तथा देश के सम्पन्न लोगों से कम से कम एक बच्चे को गोद लेने में सहयोग लिया जायेगा। राज्यपाल आज मध्यप्रदेश टी.बी ऐसोसिएशन की कार्यकारिणी की बैठक को सम्बोधित कर रही थी। राज्यपाल टी.बी. अस्पताल में टी.बी. महिला रोगियों से मिलीं और फल भेंट किये। उन्होंने रोगियों को पूरा इलाज कराने का सुझाव दिया। यह 50 वर्षों में पहला अवसर था जब कोई राज्यपाल टी.बी रोगियों से मिलने गया।

जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने लिया दद्दा जी का आशीर्वाद

दद्दा जी से आशीर्वाद लेते जनसंपर्क मंत्री डॊ. नरोत्तम मिश्रा

दद्दा जी से आशीर्वाद लेते जनसंपर्क मंत्री डॊ. नरोत्तम मिश्रा

भोपाल, बुधवार, अप्रैल 25, 2018  जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र के आज कटनी जिला प्रवास में धाम ग्राम कूड़ा घनश्याम बाग स्थित दद्दा जी आश्रम पहुँचकर गृहस्थ संत देव प्रभाकर शास्त्री दद्दा जी से भेंट कर आशीर्वाद प्राप्त किया। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने दद्दाजी के मार्गदर्शन में आगामी श्रावण मास में दतिया में पार्थिव शिवलिंग निर्माण अनुष्ठान के लिए अनुमति प्राप्त की। दतिया में 14 से 20 अगस्त तक यज्ञ होगा। इसके एक दिन पूर्व 13 अगस्त को महिलाओं द्वारा कलश यात्रा निकाली जाएगी, जिसमें दद्दा जी भी आशीर्वाद देने उपस्थित रहेंगे। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने बताया कि पार्थिव शिवलिंग निर्माण यज्ञ में दतिया जिले के नागरिक बड़ी संख्या में भागीदारी करेंगे।

सर्वांगीण विकास सभी की सामूहिक जवाबदारी :मुख्यमंत्री श्री चौहान

तेंदूपत्ता संग्राहकों को चरण पादुका वितरण करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

तेंदूपत्ता संग्राहकों को चरण पादुका वितरण करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, बुधवार, अप्रैल 25, 2018 / मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सीहोर जिले के ग्राम चकल्दी में लघु वनोपज संघ के समारोह में दो करोड़ 72 लाख की राशि तेन्दूपत्ता संग्राहकों के खातों में ई-ट्रांसफर माध्यम से वितरित की। इस अवसर पर ग्राम खजूरी निवासी श्रीमती रामीबाई तथा बनियागांव निवासी श्रीमती केवलीबाई को चप्पल पहनाकर और साड़ी वितरित कर पूरे जिले के तेंदूपत्ता संग्राहकों को जूता-चप्पल वितरण की शुरूआत की। सीहोर जिले में पन्द्रह तेन्दूपत्ता संग्रहण समितियाँ हैं और अड़तालीस हजार से अधिक संग्राहक है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सर्वांगीण विकास तभी संभव है जब सभी सामूहिक जिम्मेदारी की भावना से अपने दायित्वों का निर्वहन करें। प्रकृति प्रदत्त संसाधनों पर सभी का अधिकार है। जो लोग इसका लाभ लेने से वंचित रहे हैं, ऐसे सभी वर्ग के लोगों को आगे आने में सरकार मदद कर रही है। श्री चौहान ने कहा कि सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों के पंजीयन का कार्य अभियान स्तर पर करवाया है। ढाई एकड़ तक की जोत वाले किसानों को भी असंगठित श्रमिक माना गया है। पंजीयन का काम पूरा होने पर पात्र श्रमिकों को सभी योजनाओं का लाभ मिलेगा।

पंचायती राज व्यवस्था को मजबूत करने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया ‘राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान’ का शुभारंभ 

कार्यक्रम स्थल पर आयोजित प्रदर्शनी को देखते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

कार्यक्रम स्थल पर आयोजित प्रदर्शनी को देखते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

पंचायत प्रतिनिधियों के साथ ग्रुप फोटो में शामिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा अन्य

पंचायत प्रतिनिधियों के साथ ग्रुप फोटो में शामिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा अन्य

भोपाल, 24 अप्रैल।राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर मध्य प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य मंडला जिले के रामनगर में प्रधानमंत्री ने इस अभियान की शुरूआत की. ‘राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान’ का उद्देश्य ‘सशक्त पंचायत सशक्त भारत’ बनाना है. केंद्र सरकार की इस योजना से पंचायतें आत्मनिर्भर एवं वित्तीय रूप से मजबूत होने के साथ-साथ और कारगर होंगी. इस दौरान मोदी ने मध्यप्रदेश की जनजातियों के समग्र विकास के लिए पंचवर्षीय कार्ययोजना की रूपरेखा भी बताई. इस योजना के तहत प्रदेश के जनजातीय इलाकों में अगले पांच साल में दो लाख करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे. इसके अलावा, प्रधानमंत्री ने मंडला जिले के मनेरी में एलपीजी बॉटलिंग प्लांट की आधारशिला भी रखी. इससे मंडला एवं आसपास के जिलों में घरेलू एलपीजी गैस पहुंचाना आसान होगा.

भोपाल में आयोजित हुआ अखिल भारतीय किरार धाकड़ युवक युवती परिचय सम्मेलन

सम्मेलन में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, अखिल भारतीय किरार क्षत्रिय महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष साधना सिंह एवं अन्य

सम्मेलन में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, अखिल भारतीय किरार क्षत्रिय महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष साधना सिंह एवं अन्य

भोपाल, 22 अप्रैल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और अखिल भारतीय किरार क्षत्रिय महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष साधना सिंह भेल दशहरा मैदान में आयोजित किरार धाकड़ अखिल भारतीय युवक-युवती परिचय सम्मेलन में सम्पन्न छह जोड़ों के विवाह में शामिल हुए। इस अवसर पर उन्होंने नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद दिया। परिचय सम्मेलन में विभिन्न राज्यों से आए किरार-धाकड़ नागर समाज के युवक-युवती शामिल हुए। दोपहर तक अपना परिचय देने के बाद शाम तक छह जोड़ों ने एक दूसरे को पसंद किया। सम्मेलन में उपस्थित परिवार के लोगों से आपस में बातचीत की और संबंध तय हो गया। देर शाम तक पूरे विधि विधान से विवाह संस्कार सम्पन्न हुए। मुख्यमंत्री और उनकी धर्मपत्नी साधना सिंह चौहान ने स्वयं आगे बढ़कर उत्साहपूर्वक विवाह की तैयारियां करवाई। हल्दी लगाने से लेकर विदाई तक की रस्म में भाग लिया। विवाह के बाद उन्होंने वर-वधू को विवाह के प्रमाणपत्र भी सौंपे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने किरार, धाकड़ और नागर समाज के प्रतिभाशाली युवाओं को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जिले से समाज के विद्यार्थियों को बारहवीं कक्षा में जिले में मेरिट में प्रथम आने पर पचास हजार रुपये और द्वितीय आने पर 25 हजार रुपये पुरस्कार स्वरूप दिए जाएंगे। उन्होंने समाज के बुजुर्गों को भी सम्मानित किया।

8वीं जूनियर राष्ट्रीय हाॅकी प्रतियोगिता-तीसरा दिन

आज खेले गए मुकाबले का एक दृश्य

आज खेले गए मुकाबले का एक दृश्य

भोपाल: 22 अप्रैल, 2018 . हाॅकी इंडिया द्वारा खेल और युवा कल्याण विभाग के सहयोग से राजधानी में खेली जा रही 8वीं जूनियर राष्ट्रीय हाॅकी प्रतियोगिता के तीसरे दिन आज बालिका वर्ग में तीन और बालक वर्ग में नौ मुकाबले खेले गए।

प्रतियोगिता के अंतर्गत आज बी डिवीजन बालिका वर्ग में खेले गए मुकाबले में हॉकी बिहार ने हॉकी गुजरात को 14-0 से करारी शिकस्त देकर जीत दर्ज कराई। एक अन्य मुकाबले में हॉकी राजस्थान ने आन्ध्र हॉकी एसोसिएशन को 4-3 से हराया। जबकि हॉकी मध्य भारत और विदर्भ हाॅकी एसोसिएशन के बीच हुआ मुकाबला 1-1 से बराबरी पर रहा।

इसी तरह बालक वर्ग में आज खेले गए मुकाबलों में हॉकी कुर्ग ने हॉकी आंध्र प्रदेश को 5-2 से, हॉकी कर्नाटक ने हॉकी मध्य भारत को 5-3 से, बेंगलुरु हॉकी एसोसिएशन ने हॉकी पांडिचेरी को 4-1 से, बंगाल हॉकी एसोसिएशन ने जम्मू एंड कश्मीर को 8-0 से, हॉकी उत्तराखंड ने हॉकी मध्य प्रदेश को 7-3 से, हॉकी राजस्थान ने केरला हॉकी  को 7-2 से तथा हॉकी बिहार ने तेलंगाना हॉकी को 8-1 से तथा पंजाब नेशनल बैंक ने हॉकी हिम को 5-4 से परास्त किया।  स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ गुजरात हॉकी एकेडमी और आसाम हॉकी के बीच खेला गया मुकाबला दो-दो से बराबरी पर रहा।

आईडिया को स्टार्ट अप बनाने के लिये राजधानी मे 100 टीमों का मुकाबला

कार्यक्रम में बोलते महापौर आलोक शर्मा

कार्यक्रम में बोलते महापौर आलोक शर्मा

भोपाल, 21 अप्रेल, 2018.  भोपाल के युवाओं के पास भोपाल को स्मार्ट बनाने के बहुत सारे इनोवेटिव आईडियाज हैं, इन आइडियाज को धरातल पर उतारने का काम स्मार्ट सिटी कंपनी करेंगी। होटल नूर उस सबाह में आयोजित 36 घंटों के हेकाथान कार्यक्रम में यह बात कही। उन्होंने कहा इस हैकाथान से निकले आईडियाज पूरे मध्यप्रदेश के काम आएेंगे। महापौर ने कहा एेसे कार्यक्रमों से युवाओं का उत्साह बड़ता है और उनके विचारों को मूर्त रुप मिलता है। इस हैकाथान में लगभग 200 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में एमएसएमई मध्यप्रदेश शासन के प्रमुख सचिव कांता राव, कलेक्टर भोपाल सुदाम खाड़े और नगर निगम भोपाल की कमिश्नर प्रियंका दास मौजूद रहीं।

जीआरपी भोपाल की गिरफ्त में लुटेरे, तीस लाख का माल बरामद

गिरफ्तार आरोपियों और बरामद माल के साथ पुलिस टीम

गिरफ्तार आरोपियों और बरामद माल के साथ पुलिस टीम

भोपाल, 21 अप्रेल, 2018. बुधनी मिडघाट से 15 दिन पहले व्यापारी से एक किलो सोना लूटने वाली गैंग को जीआरपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने लुटेरों के पास से सवा लाख नकदी सहित तीस लाख का माल बरामद किया है। एसपी रुचिवर्धन मिश्रा ने बताया कि इस लूूट को अंजाम देने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक आरोपी अभी फरार है। ये सभी आरोपी विदिशा और बैरसिया क्षेत्र के रहने वाले हैं। आरोपियों की तलाश में पुलिस ने विदिशा, भोपाल, इटारसी समेत कई अन्य स्टेशनों पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगाला। तब जाकर आरोपियों का हुलिया मिल सका। इस हुलिये के आधार पर मुखबिरों की मदद से पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार किया।

सिविल सर्विस डे कार्यशाला में मुख्यमंत्री श्री चौहान 

कार्यशाला को संबोधित करते मुख्यमंत्री

कार्यशाला को संबोधित करते मुख्यमंत्री

भोपाल : शुक्रवार, अप्रैल 20, 2018, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जनता और जन-प्रतिनिधियों को जोड़कर शासकीय योजनाओं और कार्यक्रमों का संचालन जन-अभियान के रूप में किया जाना चाहिए। जनता की सहभागिता से किये गये कार्यों की सफलता सुनिश्चित होती है। यह सफलता अन्य किसी तरीके से किये गये प्रयासों से कई गुना अधिक होती है। श्री चौहान आज आर.सी. व्ही.पी.नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी में सिविल सर्विस-डे कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जन-प्रतिनिधि जन-भावनाओं से अवगत होते हैं। उनके साथ संतुलित ताल-मेल और समन्वय जरूरी है। जन-प्रतिनिधियों से शासकीय प्रयासों के प्रभावों और जन-भावनाओं का बेहतर फीडबैक मिलता है। योजनाओं एवं कार्यक्रमों की सफलता सुनिश्चित करना सिविल सेवक का दायित्व है। शासन की नीतियों का क्रियान्वयन तभी सफल होगा, जब उसका लाभ लक्षित वर्ग को मिलें, मंशा के अनुरूप जनता को योजना का लाभ नहीं मिलने से विफलता ही हाथ लगेगी। श्री चौहान ने विभिन्न योजनाओं के उद्देश्यों और प्रक्रियाओं के प्रसंगों के आधार पर सिविल सेवक की सकारात्मक सोच की भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि सिविल सेवा नौकरी नहीं, मिशन है। आम आदमी का भविष्य उज्जवल बनाने की जिम्मेदारी सिविल सेवक की है। उन्होंने कहा कि जनतंत्र की समस्त व्यवस्थाएँ जन के लिये हैं। इसलिये तंत्र को जन-भावनाओं के अनुरूप ही चलना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार नीतियाँ बनाती हैं। उन्हें जमीनी हकीकत देने का कार्य सिविल सेवक द्वारा किया जाता है।

कार्यशाला में अकादमी की महानिदेशक श्रीमती कंचन जैन, पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री अनिमेष शुक्ला भी मौजूद थे। अंत में अपर सचिव श्री के.के. कतिया ने आभार प्रदर्शन किया।

जनसम्पर्क मंत्री ने गाँव-गाँव जाकर बाँटे गैस कनेक्शन

हितग्राहियों को गैस चूल्हे वितरित करते मंत्री नरोत्तम मिश्रा

हितग्राहियों को गैस चूल्हे वितरित करते मंत्री नरोत्तम मिश्रा

भोपाल : शुक्रवार, अप्रैल 20, 2018, जनसम्पर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले के ग्राम गोराघाट, बड़ौनीखुर्द नगर, हमीरपुर, उद्गंवा एवं दतिया नगर में गरीबों को निःशुल्क गैस कनेक्शन बाँटे। इस मौके पर डॉ. मिश्र ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार नाम मात्र कीमत पर गेहूँ, चावल और नमक के अलावा अब निःशुल्क गैस कनेक्शन, प्रधानमंत्री आवास आदि की सुविधा दे रही है। दो वर्ष में सभी गरीबों के पक्के घर होंगे और उज्जवला योजना के तहत् गैस कनेक्शन दिए जायेंगे।जनसम्पर्क मंत्री ने गोराघाट में 100 हितग्राहियों को निःशुल्क गैस कनेक्शन बाँटे। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने ग्राम उद्गंवा में 61 निःशुल्क गैस कनेक्शन बांटे। इस दौरान उन्होंने कहा कि ग्राम उद्गंवा में पेयजल समस्या का निराकरण हुआ है। अब शीघ्र ही खेतों में सिंचाई समस्या का भी समाधान होगा। डॉ. मिश्र ने दतिया नगर में 25 गैस सिलेण्डर वितरित किए। इस दौरान रसोई गैस उपभोक्ताओं को गैस से संबंधित सुरक्षा के उपाए एवं गैस बचत के तरीके भी बताए गए।

ग्राम हमीरपुर बना धुआँ मुक्त उज्जवला गांव

मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ग्राम हमीरपुर भी पहुँचे, जहाँ उन्होंने कमजोर वर्ग के 101 परिवारों को निःशुल्क गैस सिलेण्डर प्रदान किए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान के साथ मैंने इस गांव का दौरा किया था और धुआं मुक्त गाँव बनाने की घोषणा की थी। अब यहाँ हमीरपुर में सभी परिवारों के पास गैस कनेक्शन है। अब यह गाँव धुआँ मुक्त उज्जवला गाँव कहलाएगा।

बाल विवाह अभिशाप है- राज्यपाल श्रीमती पटेल

नव दंपत्तियों को प्रमाणपत्र प्रदान करतीं राज्यपाल

नव दंपत्तियों को प्रमाणपत्र प्रदान करतीं राज्यपाल

भोपाल, 19 अप्रेल 2018. राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज सीहोर जिले के ग्राम झरखेड़ा में पाटीदार समाज द्वारा आयोजित सामूहिक विवाह कार्यक्रम में नव-दम्पत्तियों को आशीर्वाद दिया। समारोह में 49 युवक-युवतियों के विवाह सम्पन्न हुए।

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने इस मौके पर कहा कि सामूहिक विवाह के आयोजन समय की सबसे बड़ी जरूरत है। समाज के हर वर्ग में सामूहिक विवाह की स्वीकार्यता बढ़ी है। जातिगत भेदभाव मिटाने के लिये इस प्रकार के आयोजन सभी वर्गों के लिये अनुकरणीय हैं। उन्होंने कहा कि सामूहिक विवाह के आयोजनों से समाज में नई जागृति आई है, सामाजिक समरसता की भावना बलवती हुई है। अमीर-गरीब सभी अपने पुत्र-पुत्रियों का विवाह एक स्थान पर एकत्रित होकर करते हैं, जिससे धन का अनावश्यक व्यय नहीं होता। इस बचे हुए से धन नव-दम्‍पत्ति अपने भविष्य को संवार सकते हैं ।

बाल विवाह को कुप्रथा बताते हुए राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि बाल विवाह अभिशाप हैं। ऐसे विवाह को रोकने के लिये समाज में जागरूकता पैदा करना जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि समाज के सामने वर-वधु की उम्र की सही जानकारी होने पर बाल विवाह रोके जा सकते हैं।

भोज तालाब के संरक्षण के लिए उमड़ा जन सैलाब

श्रमदान करते मंत्री उमाशंकर गुप्ता, कमिश्नर नगर निगम प्रियंका दास तथा अन्य

श्रमदान करते मंत्री उमाशंकर गुप्ता, कमिश्नर नगर निगम प्रियंका दास तथा अन्य

भोपाल, 19 अप्रेल 2018. भोज तालाब के संरक्षण के लिए चलाये जा रहे अभियान में शहर के हर वर्ग के लोग शामिल हो रहे हैं। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने सुबह एक घंटे तालाब में श्रमदान किया। माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामदयाल प्रजापति और आयुक्त नगर निगम श्रीमती प्रिंयका दास ने भी नागरिकों के साथ श्रमदान किया। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा है कि नियमित रूप से श्रमदान करने से तालाब के गहरीकरण के साथ ही श्रमदानियों का स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा और मासपेशियॉ मजबूत होंगी। उन्होंने नगर निगम द्वारा संचालित अभियान की सराहना करते हुए कहा कि इस पुनीत कार्य में भोपाल के हर नागरिक को जुड़ना चाहिए। श्रमदान में विभिन्न स्कूलों एवं कालेजों के विद्यार्थी तथा राजनैतिक एवं सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ता भी शामिल हुए।

प्रदेश भाजपा कार्यालय में पूजा पाठ कर राकेश सिंह ने संभाला कार्यभार, वरिष्ठ नेताओं का लिया आशीर्वाद

प्रदेश कार्यालय में पदभार ग्रहण करते राकेश सिंह

प्रदेश कार्यालय में पदभार ग्रहण करते राकेश सिंह

भोपाल, 19 अप्रेल 2018 । प्रदेश भाजपा के नए अध्यक्ष राकेश सिंह ने गुरुवार को कार्यभार संभाल लिया है। बीजेपी के नवनियुक्त अध्यक्ष राकेश सिंह ने पार्टी कार्यलाय पहुंचकर विधिवत पूजा अर्चना करने के बाद कार्यभार ग्रहण किया।  पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत सहित प्रदेश पदाधिकारियों ने भी पूजन अर्चना की। तत्पश्चात श्री राकेश सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की.    उन्होंने कहा कि आज से हम चुनावी मैदान में जुटे है। प्रदेश अध्यक्ष से लेकर बूथ स्तर तक के कार्यकर्ता की पहली प्राथमिकता 2018-2019 के विधानसभा एवं लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत सुनिश्चित करना है। यह चुनाव हम भारी मतों से जीतेंगे। मिशन 200 पार के बारे में उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी 173 सीटें कार्यकर्ता के परिश्रम के बल पर और जनता के आशीर्वाद के रूप में प्राप्त कर चुकी है। 230 विधानसभाओं में अधिकांश विधानसभाएं ऐसी है जहां भाजपा ने जीत हासिल की है। इस आधार पर मिशन 200 पार भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पूरा करेंगे।

राकेश सिंह भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष

नवनियुक्त अध्यक्ष का स्वागत करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान

नवनियुक्त अध्यक्ष का स्वागत करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान

भोपाल, 18 अप्रेल 2018 । जबलपुर से तीन बार के सांसद और महाराष्ट्र के सह प्रभारी राकेश सिंह भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष बन गए हैं। पार्टी आलाकमान के निर्देश के बाद राकेश सिंह ने बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और निवृत्तमान अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान की मौजूदगी में कार्यभार ग्रहण कर लिया। वहीं पार्टी ने विधानसभा और लोकसभा चुनाव के मद्देनजर प्रदेश की चुनाव प्रबंध समिति का भी ऐलान कर दिया है। केंद्रीय पंचायत मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर समिति के संयोजक होंगे। पद संभालने के बाद राकेश ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में प्रदेश में चौथी बार पार्टी की सरकार बनाएंगे। उल्लेखनीय है कि 1980 में भाजपा के गठन के बाद से राकेश सिंह 13वें प्रदेश अध्यक्ष होंगे।

इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री श्री कैलाश जोशी, श्री बाबूलाल गौर, निवृतमान प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, पूर्व संगठन महामंत्री श्री माखन सिंह चौहान, प्रदेश महामंत्री श्री मनोहर उंटवाल, जिला अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह मंचासीन थे   श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि श्री राकेश सिंह जमीनी कार्यकर्ता है। वे जबलपुर जिला भाजपा के अध्यक्ष रहे।

अक्षय तृतीया के महामूहुर्त पर आज राजधानी में हजारों जोड़े परिणय सूत्र में बंधे

अक्षय तृतीया पर निकली बारात में शामिल दूल्हे

अक्षय तृतीया पर निकली बारात में शामिल दूल्हे

भोपाल, 18 अप्रेल 2018 । विवाह के लिए सर्वाधिक शुभ माने जाने वाले मुहूर्त अक्षय तृतीया पर लगभग पंद्रह सौ से अधिक जोड़े परिणमय सूत्र में संघ. सर्वाधिक आकर्षण का केन्द्र दोपहर बाद निकली पाल समाज की बारात रही. जिसमें ऊंटों पर सवार होकर दूल्हे शहर का भ्रमण किए. बाल विवाह रोकने प्रशासन रहा मुस्तैद: सामूहिक विवाहों व सम्मेलनों में बाल विवाह को रोकने प्रशासन मुस्तैद रहा. इसके लिए कलेक्टर के निर्देश पर टीमें गठित की गई जो आयोजन स्थल पर नजर रखे हुए थी/
लगा रहा जाम: अक्षय तृतीया के मौके पर सामूहिक विवाह के दौरान होने वाली ट्रैफिक की समस्या से निपटने के लिए यातायात पुलिस के जवानों को एक दर्जन स्थानों पर तैनात किया गया था. इसके बावजूद सामूहिक विवाह व बारात के कारण सड़कों पर जाम की स्थिति बनी रही. कोलार रोड, करोंद, छोला मंदिर, गांधी नगर, शाहजहाँनी पार्क, द्वारका नगर, काली मंदिर तलैया, कमला नगर आदि क्षेत्रों की प्रमुख सड़कों पर जाम की

झील गहरीकरण अभियान

कलेक्टर सुदाम खाड़े ने नगर निगम आयुक्त प्रियंका दास के साथ श्रमदान किया।

कलेक्टर सुदाम खाड़े ने नगर निगम आयुक्त प्रियंका दास के साथ श्रमदान किया।

भोपाल, 18 अप्रेल 2018 ।झील गहरीकरण अभियान के तीसरे दिन बुधवार को कलेक्टर सुदाम खाड़े ने नगर निगम आयुक्त प्रियंका दास के साथ श्रमदान किया। उन्होंने स्कूली छात्र-छात्राओं सहित मौके पर मौजूद अधिकारियों, शहरवासियों की हौसला अफजाई भी की। बुधवार को अभियान के तहत झील से 296 ट्रक मिट्टी निकाली गई। अभियान के दौरान श्रमदान करने वालों में कलेक्टर और निगम कमिश्नर के साथ ही एमआईसी सदस्य महेश मकवाना, भारत स्काउट एंड गाइड, रूडसेट संस्थान, सीमा सुरक्षा बल, आॅल इंडिया इंस्टीट्यूट आॅफ लोकल सेल्फ गवर्नमेंट, शहीद बीरबल ढालिया जन कल्याण परिषद, माथुर वैश्य महिला मंडल, आईईएस कॉलेज, विक्रमादित्य कॉलेज, ट्रीनिटी कॉलेज, मोन्टफोर्ट स्कूल के छात्र- छात्राएं शामिल थे।

प्रमुख सचिव पर्यावरण श्री अनुपम राजन द्वारा भानपुर खंती का औचक निरीक्षण

भानपुर खंती का निरीक्षण करते अधिकारीगण

भानपुर खंती का निरीक्षण करते अधिकारीगण

  भोपाल : बुधवार, जनवरी 31, 2018, प्रमुख सचिव पर्यावरण-सह-अध्यक्ष प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड श्री अनुपम राजन ने भोपाल की भानपुर खंती में अचानक लगी आग और उससे वायु प्रदूषण की शिकायत पर बुधवार को अमले के साथ स्थल का औचक निरीक्षण किया। श्री राजन ने कचरा भण्डारण क्षेत्र के चारों ओर तार फेंसिंग अथवा बाउण्ड्री-वॉल निर्माण कराये जाने तथा स्थल की सतत निगरानी के लिये कैमरे लगाने के निर्देश दिये। श्री राजन द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए फायर बिग्रेड की दमकलों से लगातार पानी डालने को कहा गया है।

भानपुर खंती में आग लगने और उससे वायु प्रदूषण की शिकायत पर श्री राजन के साथ बोर्ड के सदस्य सचिव श्री ए.ए. मिश्रा, क्षेत्रीय अधिकारी भोपाल डॉ. पी.एस. बुंदेला, नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी श्री राकेश शर्मा सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी भी उपस्थित थे।

जनता और सरकार के एक साथ खड़े होने से तरक्की के मुकाम पर पहुँचा मध्यप्रदेश

लाल परेड मैदान पर परेड की सलामी लेतीं मप्र की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

लाल परेड मैदान पर परेड की सलामी लेतीं मप्र की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

भोपाल, शुक्रवार, जनवरी 26, 2018,  राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने भोपाल के लाल परेड मैदान पर हुए राज्य-स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में कहा कि मध्यप्रदेश तरक्की के जिस मुकाम पर है, वह प्रदेश की जनता और सरकार के एक साथ खड़े होने से संभव हुआ है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रदेश की आगे की यात्रा और समृद्ध तथा सुखद होगी। राज्यपाल ने नागरिकों को गणतंत्र दिवस की बधाई और शुभकामनाएँ भी दीं।

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि राज्य सरकार के सुशासन और बेहतर वित्तीय प्रबंधन का ही नतीजा है कि मध्यप्रदेश की विकास दर देश की औसत विकास दर से अधिक है। उन्होंने कहा कि डेढ़ दशक पूर्व तक मध्यप्रदेश बीमारू राज्यों की श्रेणी में गिना जाता था। प्रदेश की विकास दर तो कुछ वर्षों तक नकारात्मक भी रही और देश की औसत विकास दर से हमेशा नीचे होती थी। आज मध्यप्रदेश देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है और विकास दर पिछले एक दशक से दो अंकों के करीब रही है। कृषि विकास दर तो 18 से 20 प्रतिशत तक प्रति वर्ष हो रही है। प्रदेश का बजट 2 लाख करोड़ रुपये पार कर चुका है और प्रति व्यक्ति आय में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। राज्यपाल ने कहा कि विकास दर न केवल अधिक रहे, बल्कि वह समावेशी भी हो। विकास में गरीबों की भी उतनी ही भागीदारी हो, जितनी बड़े लोगों की हो। राज्य की समावेशी विकास नीति को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने गरीबों के लिये रोटी, कपड़ा, मकान, पढ़ाई, दवाई और रोजगार की महत्वाकांक्षी योजनाएँ चलाई हैं।

हाइटेक बनेंगे 680 शासकीय आवास

कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण करते राज्स्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, महापौर भोपाल आलोक शर्मा, कलेक्टर भोपाल सुदाम खाड़े तथा अन्य अधिकारीगण

कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण करते राज्स्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, महापौर भोपाल आलोक शर्मा, कलेक्टर भोपाल सुदाम खाड़े तथा अन्य अधिकारीगण

भोपाल : बुधवार, जनवरी 24,   स्‍मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में पलाश होटल के सामने 680 शासकीय आवास बनाये जायेंगे। आवास कवर्ड, फुली आटोमेटेड और हाइटेक होंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 29 जनवरी को अपरान्ह 3.30 बजे शासकीय आवासों का भूमि-पूजन करेंगे।

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और महापौर श्री आलोक शर्मा ने स्थल निरीक्षण कर अधिकारियों को भूमि-पूजन की तैयारियाँ समय-सीमा में करने के निर्देश दिये।

शासकीय आवास जी प्लस-14 मंजिल के बनेंगे। कुल 680 आवास में से 328 एफ-टाइप और 352 जी टाइप के बनेंगे। एफ टाइप के आवास का कुल क्षेत्रफल 1157 वर्ग फीट होगा। इनमें तीन बेडरूम रहेंगे। जी-टाइप 876 वर्ग फीट के बनेंगे। इनमें दो बेडरूम रहेंगे। कुल 28 लिफ्ट लगायी जायेंगी। पूरा परिसर वाई-फाई होगा। छत पर सोलर पेनल लगाया जायेगा। इससे एक मेगावाट बिजली मिलेंगी, जो केम्पस की बिजली की मांग पूरी करेगी। पूरे केम्पस में सी.सी.टीव्ही. कैमरे लगाए जायेंगे। आरएफआईडी कार्ड के द्वारा ही प्रवेश मिलेगा। वीडियो डोर फोन की व्यवस्था रहेगी। कुल लागत 200 करोड़ रूपये है। आवासों का निर्माण 2 वर्ष में कराना है।

इस दौरान माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष श्री राम दयाल प्रजापति, कलेक्टर श्री सुदाम खाड़े, कमिश्नर नगर निगम श्रीमती प्रियंका दास, सीईओ स्मार्ट सिटी श्री चन्द्रमौली शुक्ला एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

जनसेवा के लिये है पुलिस: मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया आईपीएस मीट का शुभारंभ

विधानसभा सभागृह में आयोजित शुभारंभ कार्यक्रम में बोलते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

विधानसभा सभागृह में आयोजित शुभारंभ कार्यक्रम में बोलते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल : शुक्रवार, जनवरी 19, 2018,   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पुलिस जनसेवा के लिये है। पुलिस की सेवा को नौकरी नहीं माना जा सकता। लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी मिलना बहुत सौभाग्य की बात है। पुलिस का कर्तव्य किसी भी अन्य सेवा से अधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से कहा कि सामाजिक जटिलताओं का कुशलतापूर्वक सामना करते हुए आमजन का विश्वास जीतना होगा। अधिकारी धैर्य, उत्साह और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ कार्य करें। मन, मस्तिष्क और शरीर को चुस्त-दुरूस्त रखने के लिये योग, व्यायाम और मनोरंजन की गतिविधियों में भी शामिल हों। मुख्यमंत्री ने पुलिस बल में अवकाश की संकल्पना पर विचार करने की जरूरत बतायी। श्री चौहान आज विधानसभा सभागार में तृतीय आई.पी.एस. ऑफीसर्स मीट के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे।

विधानसभा अध्यक्ष श्री सीताशरण शर्मा ने कहा कि शासन का सबसे प्रमुख अंग सुरक्षा बल होते हैं। लोकतांत्रिक शासन प्रणाली जनहित की सबसे अच्छी प्रणाली है। उन्होंने मीट के आयोजन पहल की सराहना करते हुये कहा कि संगोष्ठी के विषयों पर विचार-विमर्श सुशासन के लिए महत्वपूर्ण होंगे। इसके सकारात्मक परिणाम आयेंगे। उन्होंने सोशल मीडिया और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के दुरूपयोग की समस्या पर भी विचार व्यक्त किये।

पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने विषय प्रर्वतन किया। उन्होंने कहा कि जनता की सेवा पुलिस का प्राथमिक दायित्व है। जन अपेक्षाओं को पूरा करने की चुनौती बहुत कठिन कार्य है। आर्थिक और तकनीकी परिवर्तन की चुनौतियां भी तेजी से बढ़ रही हैं। जनता और पुलिस के मध्य दूरी को पाटने के प्रयास पुलिस द्वारा निरंतर किये जा रहे हैं। मीट के दौरान इन चुनौतियों का सामना करने के लिये कार्यशाला का आयोजन कर युवा और वरिष्ठ अधिकारियों के मध्य संवाद का प्रयास किया गया है।

वर्षों के संचित ज्ञान का आविष्कार है सूर्य नमस्कार

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राजधानी भोपाल में लाल परेड ग्राउंड में आयोजित मुख्य समारोह में भाग लिया

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राजधानी भोपाल में लाल परेड ग्राउंड में आयोजित मुख्य समारोह में भाग लिया

भोपाल, शुक्रवार, जनवरी 12, 2018,  स्वामी विवेकानंद जयंती पर आज पूरे प्रदेश में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। सभी जिलों में उत्साहपूर्वक स्कूली बच्चों, गणमान्य नागरिकों और सभी सम्‍प्रदायों के लोगों ने सामूहिक सूर्य नमस्कार में भाग लेकर सूर्य की आराधना की।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राजधानी भोपाल में लाल परेड ग्राउंड में आयोजित मुख्य समारोह में भाग लिया । यह सामूहिक सूर्य नमस्कार का ग्यारहवां आयोजन है। उल्लेखनीय है कि स्वामी विवेकानन्द के जन्म दिन को प्रदेश में युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन सभी शिक्षण संस्थाओं में स्वामी जी के व्यक्तित्व और उनके वेदांत दर्शन की व्याख्याओं पर आधारित शैक्षणिक, सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती को पूरे प्रदेश में युवा उत्सव के रूप में मनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि स्वामी विवेकानंद का साहित्य सकारात्मक कार्य करने की ऊर्जा और प्रेरणा देता है। स्वामी विवेकानंद के विचारों का संदर्भ देते हुए श्री चौहान ने कहा कि स्वामीजी के विचार प्रेरणा के अनन्य स्त्रोत हैं।

आदि गुरू शंकराचार्य के प्रयासों से भारतीय संस्कृति आज भी अक्षुण्ण है

कार्यक्रम में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत

कार्यक्रम में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत

भोपाल, गुरूवार, जनवरी 11, 2018,   देश में एक नहीं अनेक मत-मतान्तर दिखाई देते हैं। ऐसे में आदि गुरू शंकराचार्य द्वारा बताए गए अद्वैतवाद दर्शन में विश्व की समस्याओं का समाधन निहित है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात आज विदिशा में एकात्म यात्रा में जन-संवाद को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि विश्व में आंतकवाद जैसी प्रवृत्तियों को समाप्त करने और शांति स्थापित करने की दिशा में शंकराचार्य का एकात्म दर्शन सही दिशा दे सकता है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शंकराचार्य द्वारा समाज सुधार के लिए दो हजार वर्ष पूर्व किये गये प्रयास अकल्पनीय हैं। उन्होंने देश को पूर्व-पश्चिम, उत्तर-दक्षिण से जोड़ने का जो कार्य किया, वह अद्वितीय है। आज भी उत्तराखण्ड में स्थित बद्रीनाथ मंदिर में दक्षिण भारत के नम्बूदिरी ब्राह्मण पुजारी हैं। यह देश को एक करने के लिए शंकराचार्य द्वारा देश की संस्कृति को जोड़ने का अभूतपूर्व प्रयास है। उन्होंने देश को ”जियो और जीने दो” का दर्शन दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ”वसुधैव कुटुम्बकम” के माध्यम से सारी दुनिया को एक ही परिवार मानना और सभी प्राणियों को एक समान दर्जा देना शंकराचार्य की विशेषता थी। उन्होंने विश्व के कल्याण का आव्हान किया और कहा कि सभी में एक ही चेतना है। छोटे-बड़े के बीच कोई भेद नहीं है। शंकराचार्य के प्रयासों से भारतीय संस्कृति आज भी अक्षुण्ण है। हमें इस संस्कृति का संवर्धन कर इसकी रक्षा करनी चाहिए। शंकराचार्य भगवान शंकर के अवतार थे, जिन्होंने मात्र 32 वर्ष की आयु में संसार त्याग दिया।

सरसंघ संचालक श्री मोहन भागवत ने कहा कि हमारे देश के सभी पंथ-संप्रदाय एकता और भाईचारे का संदेश देते हैं। हम प्रवचनों के माध्यम से दी गई सीख को अपने आचरण में उतारें। ऊँच-नीच से परे रहकर समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिए काम करें। ऐसा करने से ही शंकराचार्य के वेदांत दर्शन को हम आत्मसात कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अद्वैत वेदांत की भावना को मिलकर आगे बढ़ाएं। अद्वैत वेदांत ही सम्पूर्ण विश्व को मैत्री का संदेश देता है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का ग्वालियर विमानतल पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने किया आत्मीय स्वागत

प्रधानमंत्री का स्वागत करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा तथा अन्य मंत्रीगण

प्रधानमंत्री का स्वागत करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा तथा अन्य मंत्रीगण

 भोपाल, रविवार, जनवरी 7, 2018, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भारतीय वायुसेना के विमान से प्रात: 8.55 बजे ग्वालियर विमानतल पहुँचे। कुछ समय रूकने के पश्चात प्रधानमंत्री हेलीकॉप्टर द्वारा बीएसएफ टेकनपुर में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के लिये रवाना हो गये। विमान तल पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री की आत्मीय अगवानी की।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का ग्वालियर विमानतल पर केन्द्रीय पंचायती राज, ग्रामीण विकास एवं खनन मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश के जल संसाधन एवं जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह , उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर, सांसद श्री अनूप मिश्रा, सांसद डा. भागीरथ प्रसाद, ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अभय चौधरी,ग्वालियर विशेष क्षेत्र प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश जादौन, संगठन मंत्री श्री शैलेन्द्र बरूआ, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री देवेश शर्मा, ग्रामीण अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र जैन ने स्वागत किया।

प्रदेश के पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ल, ग्वालियर संभाग के आयुक्त श्री बी एम शर्मा और आई जी श्री अनिल कुमार भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी बीएसएफ टेकनपुर में दो दिवसीय कार्यक्रम में शामिल होने के बाद 8 जनवरी को ग्वालियर से दिल्ली जायेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान और श्री अमित शाह द्वारा उज्जैन में शैव कला संगम प्रदर्शनी का अवलोकन

प्रदर्शनी का अवलोकन करते श्री अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान

प्रदर्शनी का अवलोकन करते श्री अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान

भोपाल : शुक्रवार, जनवरी 5, 2018, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यसभा सदस्य तथा भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज उज्जैन में शैव कला संगम प्रदर्शनी का अवलोकन किया। श्री अमित शाह ने प्रदर्शनी-स्थल पर भगवान शिव की प्रतिमा के समक्ष दीप जलाया और प्रदर्शनी को मनोयोग से देखा और सराहा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री शाह को प्रदर्शित प्रादर्शों की जानकारी दी।

प्रदर्शनी-स्थल पर मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं सिंहस्थ केन्द्रीय समिति के अध्यक्ष श्री माखन सिंह चौहान द्वारा श्री अमित शाह का दुपट्टा ओढ़ाकर सम्मान किया गया।

‘शिवोहम-शिवोहम” चित्रमाला का अवलोकन

श्री शाह और श्री चौहान ने बाबा सत्यनारायण मौर्य की ‘शिवोहम-शिवोहम” चित्रमाला का अवलोकन भी किया। चित्रमाला में भगवान शिव के विभिन्न स्वरूपों पर आधारित श्री मौर्य द्वारा बनाये चित्र आकर्षक रूप से प्रदर्शित किये गये हैं। अवलोकन के बाद दोनों अतिथियों ने चित्रमाला की भूरि-भूरि प्रशंसा की।

दोनों अवसर पर सांसद डॉ. चिन्तामणि मालवीय, विधायक श्री कैलाश विजयवर्गीय, श्री सुरेश भैया जी जोशी, श्री कृष्णगोपाल, सिंहस्थ केन्द्रीय समिति के अध्यक्ष श्री माखन सिंह, श्री विभाष उपाध्याय और श्री अरुण शुक्ला सहित पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी उपस्थित थे।

मध्यप्रदेश में तम्बाकू उपयोग में 5 प्रतिशत की गिरावट-स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह

कार्यक्रम में पुस्तक विमोचन करते स्वास्थ्य मंत्री श्री रुस्तम सिंह और अन्य अधिकारीगण

कार्यक्रम में पुस्तक विमोचन करते स्वास्थ्य मंत्री श्री रुस्तम सिंह और अन्य अधिकारीगण

भोपाल : बुधवार, जनवरी 3, 2018,  मध्यप्रदेश में गुटका, बीड़ी-सिगरेट, खैनी आदि के प्रयोग में 5 प्रतिशत की कमी आयी है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रुस्तम सिंह ने आज ग्लोबल एडल्ट टोबेको सर्वे-2 वर्ष 2016-17 की मध्यप्रदेश रिपोर्ट का विमोचन करते हुए यह जानकारी दी। पहला सर्वेक्षण वर्ष 2009-10 में हुआ था, जिसमें तम्बाकू सेवन करने वालों का प्रतिशत 39.5 था, जो वर्ष 2016-17 में 34.2 हो गया। इसी तरह, धूम्रपान का प्रतिशत 16.9 से कम होकर 10.2 और धूम्ररहित तम्बाकू का सेवन का प्रतिशत 31.4 से घटकर 28.1 रह गया है।

छात्रों को तम्बाकू के विरुद्ध करें जागरूक

मंत्री श्री सिंह ने कहा कि स्कूल और कॉलेज छात्र-छात्राओं को नियमित रूप से तम्बाकू के खतरों से आगाह करते हुए जागरूक करें। स्कूल के प्राचार्य और अध्यापक विशेष रूप से 6वीं, 7वीं और 8वीं के बच्चों को हर दिन किसी न किसी रूप में इस बुरी आदत के नुकसानों को बतायें। अगर किशोरावस्था में ही इस बुराई पर काबू कर लिया गया, तो इसके अच्छे परिणाम मिलेंगे।

जुर्माना राशि बढ़े

श्री सिंह ने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान में कमी आयी है लेकिन इस पर होने वाले जुर्माने की राशि 200 रुपये से बढ़ाकर कम से कम एक हजार रुपये की जानी चाहिये। यदि अभिभावक चाहते हैं कि उनके बच्चों में कोई बुरी लत न हो, तो पहले वे खुद मिसाल बनें। इसी तरह, वरिष्ठ अधिकारी भी कर्मचारियों के सामने उदाहरण पेश करें।

राजनीति में खेल भावना हो लेकिन खेलों में राजनीति नहीं हो : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री द्वारा 22वें आई.ई.एस इंटर प्रेस टूर्नामेंट 2018 का शुभारंभ

शुभारंभ कार्यक्रम में बल्लेबाजी का अानंद लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

शुभारंभ कार्यक्रम में बल्लेबाजी का अानंद लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल : बुधवार, जनवरी 3, 2018, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान  ने आज यहाँ ओल्ड कैंपियन स्कूल ग्राउंड पर  भोपाल खेल पत्रकार संघ द्वारा आयोजित 22वें आई.ई.एस पब्लिक स्कूल इंटर प्रेस टूर्नामेंट 2018 का शुभारंभ किया। उन्होंने बैटिंग कर प्रतियोगिता की औपचारिक शुरूआत की।

जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, विधायक श्री सुरेंद्र नाथ सिंह, बिल्डर्स एसोसिएशन ऑफ मध्य प्रदेश के अध्यक्ष श्री दिलीप सूर्यवंशी, भाजपा राज्य उपाध्यक्ष श्री ब्रजेश लूनावत, सेंट्रल प्रेस क्लब के अध्यक्ष श्री विजय दास, आई ई एस समूह के अध्यक्ष श्री पी. एस यादव  और बड़ी संख्या में क्रिकेट प्रेमी तथा खिलाड़ी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिंदगी एक खेल है। इसे खेल भावना से जीना चाहिए। उन्होंने कहा कि राजनीति में भी खेल भावना होनी  चाहिए लेकिन खेलों में राजनीति नहीं होना चाहिए। श्री चौहान ने कहा कि पत्रकारिता में लगातार श्रम करना पड़ता है। इसलिए शरीर स्वस्थ रहना चाहिए। इसके लिए  खेलों से जुड़े रहना जरूरी है। खेल मन को  आनंद देते हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रतियोगिता अब राज्य की प्रमुख प्रतियोगिता बन गई है। उन्होंने प्रतियोगिता में भाग ले रहे  खिलाड़ियों को बधाई दी।

पहला मैच  सी एम इलेवन और पत्रकार इलेवन के बीच खेला गया। मुख्यमंत्री ने अच्छे आयोजन के लिए आयोजकों को बधाई दी। संघ के संरक्षक श्री मृगेंद्र सिंह ने स्वागत भाषण दिया। मुख्यमंत्री ने आई ई एस ग्रुप की वार्षिक पत्रिका का विमोचन किया। श्री चौहान ने  मध्य प्रदेश का प्रतिनिधित्व करने वाली सेंट्रल जोन की प्रतिभाशाली क्रिकेट खिलाड़ी सुश्री प्रीति यादव और स्नूकर खिलाड़ी श्री कमल चावला का स्वागत किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा शासकीय कैलेण्डर एवं डायरी का विमोचन

केलेंडर का विमोचन करते मुख्यमंत्री तथा अन्य मंत्रीगण

केलेंडर का विमोचन करते मुख्यमंत्री तथा अन्य मंत्रीगण

भोपाल : मंगलवार, जनवरी 2, 2018, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश शासन के वर्ष 2018 के कैलेण्डर एवं डायरी का आज मंत्रालय में विमोचन किया। कैलेण्डर में राज्य शासन के ऐसे 12 लोक कल्याणकारी फैसलों से संबंधित चित्र दर्शाये गये हैं, जिनसे जन-जीवन की दिशा और दशा बदली है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस आकर्षक कैलेण्डर की सराहना की। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में पिछले वर्ष ऐसे कार्य किये गये हैं जिनसे प्रदेशवासियों के जीवन में खुशहाली आयी है।

इस अवसर पर जल संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा, गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी, संस्कृति राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा एवं मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पांडे एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 मुख्यमंत्री निवास में मना क्रिसमस पर्व, यीशु की स्तुति में गूंजे तराने

प्रभु यीशु की शिक्षाओं से होगी शांति की स्थापना : मुख्यमंत्री श्री चौहान251217n20

भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 26, 2017, सर्वधर्म समभाव की परंपरा को समृद्ध बनाते हुए आज मुख्यमंत्री निवास पर क्रिसमस का त्यौहार पारंपरिक उल्लास और उत्साह से मनाया गया। इस अवसर पर सभी धर्मों के धर्मगुरु उपस्थित थे। आर्च बिशप लियो कार्नेलिओ, विभिन्न चर्चों से आये फादर, पास्कल, सिस्टर्स और बड़ी संख्या में उपस्थित मसीह समुदाय  के श्रद्धालुओं ने लोक कल्याणकारी योजनाओं के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान का अभिनंदन किया।

श्री चौहान ने कहा कि प्रभु यीशु ने मानवता की सेवा का संदेश दिया। सेवा, दया और करूणा का संदेश दिया। उनकी शिक्षाओं से ही शान्ति स्थापित की जा सकती है। उन्होने कहा कि आज प्रभु यीशु की शिक्षाओं से प्रेरित होकर पीड़ित मानवता के लिये काम करने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने केक काटकर यीशु का जन्मोत्सव मनाया। श्री चौहान ने एकात्म यात्रा की चर्चा करते हुए कहा कि आदि शंकराचार्य ने कहा था कि सब जीवों में एक ही चेतना है।

इस अवसर पर बेटियों की गरिमा और प्रतिभा की रेखांकित  करने वाली नाटिका और प्रभु यीशु के जन्म की कहानियों पर आधारित नाटक का मंचन किया गया।

निर्धारित अवधि से 18 महीने पहले बनकर तैयार होगा रेल्वे ओवर-ब्रिज -राज्य मंत्री श्री सारंग231217n2

भोपाल : शनिवार, दिसम्बर 23, 2017, सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा है कि ओल्ड सुभाष नगर में निर्माणाधीन रेल्वे ओवर-ब्रिज (आर.ओ.बी.) निर्धारित अवधि से 18 माह पहले बनकर तैयार होगा। राज्य मंत्री श्री सारंग ने आज निर्माणाधीन आर.ओ.बी. का निरीक्षण किया और कार्य की प्रगति के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की।

राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि ओल्ड सुभाष नगर फाटक पर आर.ओ.बी. के निर्माण से वर्षों पुरानी समस्या का समाधान होगा। उन्होंने बताया कि आर.ओ.बी. में लोक निर्माण विभाग का 85 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। रेल्वे द्वारा भी कार्य शुरू कर दिया गया है। आर.ओ.बी. निर्माण की लागत 40 करोड़ रुपये है।

इस मौके पर स्थानीय पार्षद, रेलवे और लोक निर्माण विभाग के अधिकारी तथा स्थानीय नागरिक मौजूद थे।

नवीन हाई स्कूल नेहरू नगर को मिलेंगे फर्नीचर – राज्य मंत्री श्री जोशी221217n16

भोपाल : शुक्रवार, दिसम्बर 22, 2017, तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने शासकीय नवीन हाई स्कूल, नेहरू नगर में राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस पर आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता के विजेता विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया। उन्होंने स्कूल में फर्नीचर उपलब्ध करवाने की घोषणा की।

श्री जोशी ने कहा कि विद्यार्थी 12वीं की परीक्षा में 70 प्रतिशत से अधिक अंक लायेंगे तो उनके आगे की पढ़ाई का खर्च सरकार उठायेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के बारे में विस्तार से बताया। श्री जोशी ने कहा कि न खुद गंदगी करें और न दूसरों को करने दें। उन्होंने कहा कि बिजली और पानी की बचत करके भी देश-सेवा कर सकते हैं।

श्री जोशी ने चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली आंचल वर्मा, द्वितीय स्थान पर रही संगीता प्रजापति और तृतीय स्थान पर रहे सुमित विश्वकर्मा को पुरस्कृत किया। इसके साथ ही अनेक प्रतिभागियों को सांत्वना पुरस्कार तथा एनसीसी केडेट्स को प्रमाण-पत्र वितरित किये। कार्यक्रम में ऊर्जा विकास निगम के अधिकारी और शिक्षक उपस्थित थे।

राष्ट्रीय बालरंग समारोह के माध्यम से बच्चों का किया जाता है समग्र विकास:-स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर शाह201217n7

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 20, 2017, स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह ने कहा है कि राष्ट्रीय बालरंग समारोह देशभर के बच्चों का घर है। यहाँ बच्चों का समग्र रूप से विकास किया जाता है। उन्होंने कहा कि देश के कोने-कोने से आये बच्चे जो सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ देते हैं, उन्हें और निखारने की जरूरत है। इसके लिये भविष्य में कला जगत के वरिष्ठ कलाकारों को भी आमंत्रित किया जायेगा। स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह आज भोपाल के इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय में राष्ट्रीय बालरंग समारोह को संबोधित कर रहे थे। बालरंग समारोह के दूसरे दिन विभिन्न राज्यों के बच्चों ने अपने-अपने राज्यों की संस्कृति के अनुरूप आकर्षक लोक-नृत्य प्रस्तुत किये। राष्ट्रीय बालरंग समारोह में 26 राज्यों के करीब 600 और प्रदेश के स्कूलों के करीब 10 हजार बच्चे भागीदारी कर रहे हैं।

स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर शाह ने कहा कि बालरंग समारोह पूरी तरह से बच्चों द्वारा बच्चों के लिये किया जाता है। इस बार नये प्रयोगों के साथ बालरंग का आयोजन किया गया है। जहाँ एक ओर छात्र सांस्कृतिक और साहित्यिक प्रतियोगिताओं में अपना हुनर दिखा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर बच्चे ही शेफ के रूप में फुड स्टॉल्स पर लोगों को अलग-अलग व्यंजनों से रू-ब-रू करा रहे हैं। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि छात्रों में प्रतिभा के विकास के लिये उन्हें मंच संचालन, मंच एवं कार्यक्रम प्रबंधन, पत्रकारिता जैसे व्यक्तित्व विकास के पहलुओं से भी परिचित कराया जा रहा है। बाल-पत्र का प्रकाशन छात्र पत्रकारों ने इसी उद्देश्य से किया है। बालरंग समारोह में सुरक्षा एवं अनुशासन का कार्य एनसीसी केडेट्स एवं स्काउट गाइड के जिम्मे ही सौंपा गया है।

इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय के निदेशक प्रो. सरित कुमार चौधुरी ने अपने संबोधन में कहा कि देशभर के विभिन्न राज्यों से आये बच्चे संग्रहालय को देखें और यहाँ की विरासत के बारे में अपने राज्यों में जाकर अन्य बच्चों को भी बतायें, जिससे वे भी भविष्य में भोपाल आ सकें। निदेशक श्री चौधुरी ने बताया कि स्कूली बच्चों के लिये प्रति वर्ष किये जाने वाले इस आयोजन का उद्देश्य स्थानीय बच्चों को विभिन्न राज्यों की संस्कृति, सभ्यता, रहन-सहन, खान-पान इत्यादि से परिचित कराने के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों में देश द्वारा की गई प्रगति की जानकारी प्रदान करना है, ताकि बच्चों में नेतृत्व, प्रबंधन, टीम भावना विकसित की जा सके। कार्यक्रम में संचालक लोक शिक्षण श्रीमती अंजू पवन भदौरिया और अपर संचालक श्री डी.एस. कुशवाह भी मौजूद थे।

राष्ट्रीय बालरंग समारोह में उत्तर प्रदेश के छात्रों ने अवधि लोक-नृत्य, अरुणाचल प्रदेश के बच्चों ने मुक्को लोक-नृत्य, असम के छात्रों ने बगरूबा डांस, जम्मू-कश्मीर के छात्रों ने डोंगरी लोक-नृत्य, नागालैण्ड के बच्चों ने जिलियोंग डांस की प्रस्तुति दी। गुजरात के छात्रों ने पूरे उत्साह के साथ गरवा लोक-नृत्य, जय अंबे, जय अंबे की प्रस्तुति दी। मध्यप्रदेश के बच्चों ने बुंदेलखण्ड का बधाई लोक-नृत्य प्रस्तुत किया। राष्ट्रीय स्कूल बैण्ड प्रतियोगिता में 9 राज्यों के बच्चों ने बालक एवं बालिका वर्ग में प्रस्तुतियाँ दीं।

भोपाल हाट में लघु भारत के दर्शन : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र191217n35

भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 19, 2017, जनसम्‍पर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज शाम भोपाल हाट में 13 दिवसीय आदि महोत्सव का शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सहकारिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने की। भारत सरकार के आदिवासी कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत ट्रायफेड के इस कार्यक्रम में देश भर के आदिवासी शिल्पियों द्वारा विभिन्न उत्पादों की प्रदर्शनी और बिक्री की व्यवस्था की गई है।

जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि भोपाल हाट में एक लघु भारत का निर्माण देखने को मिला। अलग-अलग प्रदेशों की संस्कृतियों को एक ही स्थान पर देखना विलक्षण अनुभव है। इसके साथ ही यहाँ विशिष्ट भारतीय संस्कृति और भाषाई एकता भी देखने को मिली है। जनसम्‍पर्क मंत्री ने कहा कि आदि महोत्सव जैसे कार्यक्रम शिल्पियों के आर्थिक उन्नयन में भी मददगार हैं। डॉ. मिश्र ने आदि महोत्सव की सराहना करते हुए कहा कि आदिवासी शिल्प की वस्तुओं को खरीदकर हुनरमंद कलाकारों को प्रोत्साहित किया जाए।

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा कि आदिवासी शिल्पी आदि महोत्सव के माध्यम से स्वावलम्बन प्राप्त करने के साथ ही परम्पराओं को सहेजने का महत्वपूर्ण कार्य भी कर रहे हैं।

ट्रायफेड, नई दिल्ली के एमडी श्री प्रवीर कृष्ण ने संस्था की गतिविधियों की जानकारी दी। इस अवसर पर ट्रायफेड के संचालक मण्डल के सदस्य श्री यशवंत सिंह दरबार और क्षेत्रीय प्रबंधक श्री जे.एस. शेखावत उपस्थित थे।

महोत्सव में 100 से भी अधिक स्टॉलों के माध्यम से आदिवासी कलाकृतियों का प्रदर्शन और विक्रय किया गया है। महोत्सव में 25 राज्यों के 100 से अधिक आदिवासी कलाकार भाग ले रहे हैं। महोत्सव का विशेष आकर्षण प्रतिदिन शाम 6.30 बजे से होने वाला आदिवासी गीत-संगीत और नृत्य है। महोत्सव में जम्मू-कश्मीर से लेकर तमिलनाडु और गुजरात से लेकर नागालैण्ड तथा सिक्किम की आदिवासी कलाकृतियाँ एवं कपड़ों का प्रदर्शन-सह-बिक्री की जा रही है। महोत्सव में आदिवासियों में डिजिटल और ई-कॉमर्स को प्रोत्साहित करने के लिये सभी स्टॉलों पर क्रेडिट एवं डेबिट-कार्ड के माध्यम से पेमेंट की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। इसके लिये आदिवासी कारीगरों को एसबीआई द्वारा विशेष ट्रेनिंग दी गई है।

भारत की संस्कृति अनुपम है : राज्यपाल प्रो. सोलंकी121217n7

भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 12, 2017,हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा है कि किसी भी राष्ट्र की पहचान उसकी संस्कृति में निहित है। भारत की संस्कृति अनुपम है। इस संस्कृति में अन्याय के ऊपर न्याय और अधर्म के ऊपर धर्म के मूल्य संस्थापित हैं। राज्यपाल प्रो. सोलंकी आज यहाँ मानस भवन में वर्ष 2015 एवं 2016 के अखिल भारतीय एवं प्रादेशिक पुरस्कारों से रचनाकारों को अलंकृत कर रहे थे। राज्यपाल श्री सोलंकी ने इस अवसर पर ‘समारोह चित्रावली” का लोकार्पण भी किया। राज्यपाल ने संस्कृति विभाग को इस प्रतिष्ठापूर्ण आयोजन के लिये बधाई दी। संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

वर्ष 2015 के लिये अलंकृत रचनाकार

अखिल भारतीय पुरस्कार से रचनाकार डॉ. लहरी सिंह (सीधी) को पं. माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार (निबंध), सुश्री सुषमा मुनीन्द्र (सतना) गजानन माधव मुक्तिबोध पुरस्कार (कहानी) डॉ. हरि जोशी (भोपाल) वीरसिंह देव पुरस्कार (उपन्यास), डॉ. साधना बलवटे (भोपाल) आचार्य रामचन्द्र शुक्ल पुरस्कार (आलोचना) एवं डॉ. विद्या बिन्दु सिंह (लखनऊ) पं. भवानी प्रसाद मिश्र पुरस्कार (कविता) से सम्मानित किया गया।

प्रादेशिक पुरस्कार से श्री मलय जैन (भोपाल) को पं. बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’ पुरस्कार (उपन्यास), श्री चन्द्रभान राही (भोपाल) सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार (कहानी), डॉ. वीणा सिन्हा (भोपाल) श्रीकृष्ण सरल पुरस्कार (कविता), डॉ.कृष्ण गोपाल मिश्र (होशंगाबाद) आचार्य नन्ददुलारे वाजपेयी पुरस्कार (आलोचना), श्री शांतिलाल जैन (भोपाल) राजेन्द्र अनुराग पुरस्कार (व्यंग्य, ललित निबंधन, डायरी, संस्मरण आदि), सुश्री मधु शुक्ला (भोपाल) दुष्यन्त कुमार पुरस्कार (प्रदेश के लेखक की पहली कृति) एवं श्री नरेन्द्र श्रीवास्तव (गाडरवारा) को जहूर बख्श पुरस्कार (बाल साहित्य) अलंकृत किये गये।

वर्ष 2016 के लिये अलंकृत रचनाकार

अखिल भारतीय पुरस्कार से रचनाकार डॉ. सुरेश मिश्र (भोपाल) को पं. माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार (निबंध), डॉ. अमिता दुबे (लखनऊ) गजानन माधव मुक्तिबोध पुरस्कार (कहानी), श्री गुणसागर सत्यार्थी (टीकमगढ़) वीरसिंह देव पुरस्कार (उपन्यास), श्री भगवंतराव दुबे (जयपुर) आचार्य रामचन्द्र शुक्ल पुरस्कार (आलोचना) एवं श्रीमती अनीता सक्सेना (भोपाल) को पं. भवानी प्रसाद मिश्र पुरस्कार (कविता) से सम्मानित किया गया।

वर्ष 2016 के प्रादेशिक पुरस्कार से सम्मानित रचनाकार हैं:- श्री जगदीश जोशीला (खरगौन) को पं. बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’ पुरस्कार (उपन्यास), डॉ. अनीता सिंह चौहान, भोपाल सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार (कहानी), श्री संत कुमार मालवीय ‘संत’ (भोपाल) श्रीकृष्ण सरल पुरस्कार (कविता), डॉ. बहादुर सिंह परमार (छतरपुर) आचार्य नन्ददुलारे वाजपेयी पुरस्कार (आलोचना), डॉ. पुरुषोत्तम चक्रवर्ती (भोपाल) हरिकृष्ण प्रेमी पुरस्कार (नाटक), श्री विजयमोहन तिवारी (भोपाल) राजेन्द्र अनुरागी पुरस्कार (व्यंग्य, ललित निबंध, डायरी, संस्मरण आदि), श्रीमती शीला मिश्रा (भोपाल) दुष्यन्त कुमार पुरस्कार (प्रदेश के लेखक की पहली कृति), श्री देवेन्द्र सिह ‘दाऊ’ (भिण्ड) ईसुरी पुरस्कार (लोक भाषा विषयक) एवं डॉ. कैलाश गुप्ता ‘सुमन’ (मुरैना) को जहूर बख्श पुरस्कार (बाल साहित्य) से नवाजा गया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान से विश्व चैम्पियन दि ग्रेट खली की सौजन्य भेंट111217n2

भोपाल : सोमवार, दिसम्बर 11, 2017, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज निवास पर डब्लयूडब्ल्यूई के विश्व हैवीवेट चैम्पियन, भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले दि ग्रेट खली श्री दलीप सिंह राणा ने सौजन्य भेंट की।

श्री चौहान ने मध्यप्रदेश में दि ग्रेट खली का स्वागत करते हुए उन्हें भारत का गौरव बताया।  दि ग्रेट खली ने मध्यपदेश में खेलों को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान की सराहना की। दि ग्रेट खली के आग्रह पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में रेसलिंग को बढ़ावा दिया जायेगा।

महिलाओं के लिए समानता का आशय पुरुषों जैसा होना नहीं : मंत्री श्रीमती चिटनिस101217n14

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 10, 2017, महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा है कि महिलाओं के लिये समानता का आशय पुरुषों जैसा होना नहीं हैं, अपितु महिलाओं का अपना विशिष्ट स्थान है जिसे समाज भलिभाँति स्वीकार करता है। उन्होंने कहा कि महिलाओं कि प्राथमिकता को उनकी कमजोरी नहीं समझना चाहिए। यदि महिला, मातृत्व संबधी कारणों से कुछ गतिविधियों को विशेष अवधि में कम समय देती है तो यह उनकी कमजोरी नहीं अपितु उनके विशेष अधिकार है जिसे उनकी प्राथमिकता के प्रति संवेदनशीलता के रूप में देखा जाना चाहिए। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि हमें हमारे परिवेश और समृद्ध तथा स्वस्थ परम्परा के अनुसार सोच का नजारिया विकसित करना होगा। हमारे अतीत को अंधकारमय बताने वाले औपनिवेशिक सोच से मुक्त होना बड़ी चुनौती है।

श्रीमती चिटनिस मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस पर ‘महिलाओं के अधिकार-मानवाधिकार हैं’ विषय पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रही थीं।

महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने कहा कि आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों में भय व्याप्त करने के लिये कानून जरूरी है। महिला अधिकारों और महिलाओं की सुरक्षा तथा सशक्तिकरण के लिये बनाये गये कानून की जानकारी देने के लिये प्रदेश की 92 हजार ऑगनवाड़ी में गठित शौर्या दलों के माध्यम से विशेष अभियान चलाया जाएगा। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के यह स्पष्ट निर्देश हैं कि थाने में पहुँचने वाली हर पीड़ित महिला की रिपोर्ट दर्ज हो।

कार्यशाला को संबोधित करते हुये न्यायाधीश श्री जे.पी. गुप्ता ने कहा कि यूएनओ ने 2030 तक महिला सशक्तिकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने की समय-सीमा निर्धारित की है। उन्होंने विधिक प्रक्रिया तथा अधिकारों की जानकारी का विस्तार ग्रामीण क्षेत्र विशेष कर अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति बाहुल्य क्षेत्रों में करने की आश्यकता बताई। श्री गुप्ता ने कहा कि अदालतों में 40 प्रतिशत मामले महिला उत्पीड़न से संबंधित हैं जिनमें दहेज और घरेलू हिंसा से संबंधित मामलों का प्रतिशत बहुत अधिक है। श्री गुप्ता ने कानूनों और प्रक्रिया को व्यवहारिक बनाने की आवश्यकता भी बताई।

कार्यशाला को संबोधित करते हुये मानव अधिकार आयोग के कार्यवाहक अध्यक्ष श्री मनोहर मनतानी ने कहा कि महिला अपराध में वृद्धि सरकार के साथ-साथ समाज के लिये भी चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में हम सब को सहभागी होना होगा। व्यक्तिगत और समाज की सोच बदलने की जरूरत है। महिला उत्पीड़न पर विरोध जताने और चुप्पी तोड़ने की प्रवृत्ति विकसित करनी होगी। श्री ममतानी ने महिलाओं के विरुद्ध अपराधों के प्रकरणों के शीघ्र निराकरण के लिए स्थाई व्यवस्था स्थापित करने की आवश्यकता बताई। महिलाओं द्वारा शिक्षा निरंतर नहीं रख पाने, लिव इन रिलेशनशिप, पीसीपीएनडीटी एक्ट के संबंध में भी उन्होंने अपने विचार रखे।

मानव अधिकार आयोग के सदस्य श्री सरबजीत सिंह ने कहा कि अभिभावकों की भूमिका, बालक-बालिकाओं को समान वातावरण देने और बालिकाओं में विश्वास की भावना विकसित करने की आवश्यकता है। महिला अधिकारों के संबंध में उन्होंने कहा कि इस दिशा में बने कानूनों का प्रभावी क्रियान्वयन समानता और समाज के सोच के तरीके को बदलने के लिए कारगर सिद्ध होगा।

अंतर्राष्ट्रीय पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को नौकरी में मिलेगी सीधी नियुक्ति

शूटिंग रेंज का उद्धाटन करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया और ओलोंपियन अभिनव बिंद्रा

शूटिंग रेंज का उद्धाटन करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया और ओलोंपियन अभिनव बिंद्रा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 6, 2017, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में पदक प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों को शासकीय सेवा में सीधी नियुक्ति दी जायेगी। उन्होंने कहा है कि खेलों के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने अलग करने की ठानी है। श्री चौहान आज यहाँ मध्यप्रदेश शूटिंग अकादमी में अभिनव बिन्द्रा 10 मीटर शूटिंग रेंज, 25 मीटर शूटिंग रेंज और प्रशासकीय भवन के लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, ओलम्पिक गोल्ड मेडलिस्ट श्री अभिनव बिन्द्रा, नेशनल रायफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष श्री रनिंदर सिंह इस अवसर पर उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ियों में प्रतिभा और क्षमता है। उन्हें आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध कराई जायें, तो वे खेल के क्षेत्र में चमत्कार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ी वर्ष 2020 के ओलम्पिक में अलग- अलग खेलों में देश का प्रतिनिधित्व करें। श्री चौहान ने कहा कि यदि लगन और जज्बा हो, तो कुछ भी असंभव नहीं है। उन्होंने खिलाड़ियों का आव्हान किया कि आगे बढ़ें और आसमान छू लें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नव-निर्मित शूटिंग रेंज और प्रशासनिक भवन का अवलोकन भी किया।

गोल्ड मेडलिस्ट श्री अभिनव बिन्द्रा ने विभिन्न अकादमी के खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों के प्रश्नों के जवाब दिये। श्री बिन्द्रा ने कहा कि प्रतियोगिता के दौरान ‘मैच प्रेशर’ आए तो उसको एक्सेप्ट करें, भागें नहीं। लक्ष्य पर अपना फोकस बनाए रखें और आत्म-विश्वास बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के समय अगर मानसिक दबाव महसूस करते हैं, तो स्वयं को चैलेंज करें और अपनी बेसिक और तकनीक पर ज्यादा ध्यान दें। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधार राजे सिंधिया ने कहा कि अनुशासन से ही जीवन और खेल में फोकस करने में मदद मिलती है।

इस अवसर प्रमुख सचिव खेल एवं युवा कल्याण श्री अनिरूद्ध मुखर्जी, प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री एस.के.मिश्रा, संचालक खेल एवं युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन एवं बड़ी संख्या में खिलाड़ी उपस्थित थे।

भोपाल गैस काण्ड की विधवा महिलाओं की पेंशन जारी रहेगी

भोपाल गैस त्रासदी की 33वीं बरसीं की सर्वधर्म प्रार्थना सभा में मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल गैस त्रासदी के प्रतीक चिन्ह पर श्रद्धांजली अर्पित करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल गैस त्रासदी के प्रतीक चिन्ह पर श्रद्धांजली अर्पित करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 3, 2017, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ सेंट्रल लायब्रेरी में भोपाल गैस त्रासदी की 33वीं बरसी पर आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में कहा कि तीन दिसम्बर 1984 की वह रात आज भी नहीं भूलती, जब हमारा जिन्दा शहर लाशों के ढेर में तब्दील हो गया था। यह ऐसी त्रासदी थी जिसे भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि हमें यह विचार करना होगा कि भौतिक प्रगति की दौड़ में हम किस दिशा में जा रहे हैं? प्रगति की अंधी दौड़ धरती पर जीवन के अस्तित्व को ही खतरे में डाल रही है। श्री चौहान ने विकास और पर्यावरण में संतुलन बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित करते हुए कहा कि विकास के नाम पर पर्यावरण को प्रदूषित करने की प्रवृत्ति पर रोक लगानी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गैस त्रासदी के सभी प्रभावितों के इलाज और पुनर्वास के प्रयास लगातार जारी हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि संकल्प लें कि अब ऐसी कोई त्रासदी दोबारा नहीं होने देंगे।

श्री चौहान ने कहा है कि भौतिक प्रगति की चाह में दुनिया को ऐसा नहीं बनायें कि वह रहने लायक ही नहीं रहे। ऐसी व्यवस्था बनायें जिससे पर्यावरण और जलवायु नहीं बिगड़े और धरती जहरीली नहीं हो। श्री चौहान ने कहा कि भोपाल गैस काण्ड में विधवा हुई महिलाओं की पेंशन जारी रहेगी।

प्रार्थना सभा में सनातन, इस्लाम, सिक्ख, ईसाई, जैन, बौद्ध तथा बोहरा धर्म के धर्माचार्यों द्वारा पाठ किया गया। गैस त्रासदी में दिवंगतों की स्मृति में दो मिनट का मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि दी गयी।

कार्यक्रम में सहकारिता एवं गैस राहत (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह और राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

प्रदेश को एड्स शून्य राज्य बनायें- स्वास्थ्य मंत्री श्री रुस्तम सिंह

संबोधित करते लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री ऱुस्तम सिंह

संबोधित करते लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री ऱुस्तम सिंह

भोपाल, दिसम्बर 1, 2017, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रुस्तम सिंह ने राज्य एड्स नियंत्रण समिति द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश को एड्स शून्य राज्य बनायें। प्रदेश में वर्ष 2005 में एचआईवी/एड्स का प्रतिशत 11.45 था जो समिति के निरंतर प्रयासों से अब घटकर 0.42 रह गया है। श्री सिंह ने यह बात आज भोपाल में विश्व एड्स दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने चिकित्सकों और चिकित्सा विद्यार्थियों से कहा कि गरीब का इलाज मानवता की सेवा की भावना से प्राथमिकता से करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एड्स मरीजों की संख्या में उल्लेखनीय कमी के लिए चिकित्सकों के साथ मीडिया का भी महत्वपूर्ण योगदान है। इस मौके पर परियोजना संचालक श्री उमेश कुमार भी उपस्थित थे।

समिति द्वारा ‘एड्स नियंत्रण कार्यक्रम की चुनौतियां और संभावनाएं’ पर सेमिनार भी किया गया। इसमें डॉ. मनीषा श्रीवास्तव ने ब्लड ट्रांसफ्यूजन और एचआईवी/एड्स, डॉ. माधुरी चन्द्रा ने ‘नवजात शिशुओं में एचआईवी/एड्स से बचाव’ डॉ. हेमंत वर्मा ने एचआईवी/एड्स प्रबंधन में एआरटी की भूमिका, डॉ. सुनील कुमार ने ‘एड्स और कैंसर’ तथा डॉ. मनोज वर्मा ने एचआईवी और टीबी के सह-संबंध पर जानकारी दी।

सेमिनार में भोपाल के विभिन्न चिकित्सा महाविद्यालयों नर्सिंग विद्यालय और पैरा-मेडिकल छात्र-छात्राओं के अलावा सभी जिलों के एकीकृत परामर्श एवं परीक्षण केन्द्रों और स्वैच्छिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया। इन्होंने क्विज, जादू और कैडिल मार्च कार्यक्रमों में भी उत्साह से भाग लिया। एड्स जागरूकता के लिये समन्वय भवन से गैमन इंडिया मॉल तक कैडिल मार्च किया गया।

कार्यक्रम का संचालन संयुक्त संचालक श्रीमती सविता ठाकुर और आभार संयुक्त संचालक डॉ. यू.सी. यादव ने किया।

श्री चौहान ने नेतृत्व में आजादी के सपनों को साकार कर रहा मध्यप्रदेश : राज्यपाल हरियाणा श्री सोलंकी 

मुख्यमंत्री को सम्मानित करते हरियाणा के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

मुख्यमंत्री को सम्मानित करते हरियाणा के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

भोपाल, 29 नवंबर 2017 ..हरियाणा के राज्यपाल प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान को सुभाष चन्द्र बोस नेतृत्व सम्मान से आज मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में सम्मानित किया। कार्यक्रम नगर पालिक निगम भोपाल के तत्वावधान में आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने युवाओं के साथ संवाद भी किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संवाद के दौरान इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जे.ई.ई. मेन की डेढ़ लाख तक की मेरिट लिस्ट में आने वाले प्रतियोगियों को मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी छात्रवृत्ति योजना से लाभान्वित किये जाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि चयनित विद्यार्थियों की इंजीनियरिंग शिक्षा की फीस राज्य सरकार भरवायेगी। अगले वर्ष हाईस्कूल, हायर सेकेण्ड्री स्तर पर कैरियर काउंसलिंग प्रकोष्ठों का गठन किया जायेगा। विद्यार्थी छात्र पंचायत का शीघ्र ही आयोजन किया जायेगा। दुर्घटना में घायल होने वाले विद्यार्थियों के इलाज का व्यय शिक्षण संस्था अथवा मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से वहन किया जायेगा। विद्यार्थी की मृत्यु होने पर आश्रित परिवार के भरण-पोषण की व्यवस्था की जायेगी। प्लेसमेंट के बेहतर अवसर उपलब्ध करवाने के लिये राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय और राज्य शासन द्वारा बहुराष्ट्रीय कंपनियों के साथ ही स्वदेशी कंपनियों को भी आमंत्रित करवाने की व्यवस्था की जायेगी। जे.ई.ई. परीक्षा में प्रतियोगियों की बड़ी संख्या के दृष्टिगत संबंधित विभागों से परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़वाने ताकि परीक्षार्थियों को घर से दूर नहीं जाना पड़े ऐसी व्यवस्था करवाने का आश्वासन दिया।

इसी वर्ष से ज्योतिष, वास्तु और पुरोहित विधा का डिप्लोमा पाठ्यक्रम

समारोह में बोलते मंत्री विजय शाह

समारोह में बोलते मंत्री विजय शाह

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 28, 2017, स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह ने कहा है कि ज्योतिष, वास्तु और पुरोहित विधा भारत की प्राचीन संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। इनके संरक्षण और विकास के लिए राज्य सरकार द्वारा ठोस कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग इसी वर्ष से ज्योतिष, वास्तु और पुरोहित विधा पर एक वर्षीय पाठ्यक्रम शुरू करेगा। स्कूल शिक्षा मंत्री आज भोपाल में दो दिवसीय राष्ट्रीय ज्योतिष कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। भोपाल के बागसेवनिया स्थित राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान में आयोजित कार्यशाला में देशभर के प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्य भाग ले रहे हैं। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि आधुनिकता से भारत की प्राचीन संस्कृति प्रभावित हो रही है। उन्होंने कहा कि मानव जीवन, सामाजिक घटनाक्रम और जलवायु परिवर्तन को ज्योतिष विद्या प्रभावित करती है। इन परिवर्तनों को समझने के लिए अच्छे ज्योतिषाचार्य की आवश्यकता होती है। कुँवर शाह ने कहा कि ज्योतिष शास्त्र की वैज्ञानिकता और वर्तमान समय में प्रासंगिकता विषय पर प्रत्येक जिला मुख्यालय पर कार्यशाला होगी।

देश-विदेश के बौद्ध अनुयायियों ने किया अस्थि-कलश पूजन

समारोह में हिस्सा लेने विदेशों से आए बौद्ध धर्मावलंबी

समारोह में हिस्सा लेने विदेशों से आए बौद्ध धर्मावलंबी

भोपाल : शनिवार, नवम्बर 25, 2017, विश्व प्रसिद्ध पर्यटन केन्द्र एवं बौद्ध अनुयायियों के तीर्थ स्थल साँची में 65वां महाबोधि महोत्सव आज सुबह भगवान बुद्ध के शिष्य सारिपुत्र और महामोदग्लायन के अस्थि-कलश पूजन के साथ शुरू हुआ। अस्थि-कलश पूजन के लिए श्रीलंका, जापान, भूटान, ताईवान, चीन तथा थाईलैण्ड सहित कई देशों से बड़ी संख्या मे आए बौद्ध अनुयायी पारंपरिक ढोल-नगाड़ों के साथ महाबोधि सोयायटी से स्तूप परिसर स्थित बुद्ध मंदिर पहुंचे।

स्तूप परिसर स्थित मंदिर में श्रीलंका महाबोधी सोसायटी के अध्यक्ष श्री वानगल उपतिस्स नायक थेरो तथा उनके शिष्यों द्वारा महात्मा बुद्ध के शिष्य महामोदग्लायन एवं सारिपुत्र की पवित्र अस्थियों की पूजा कर उसे दर्शनार्थ प्रस्तुत किया गया।

महोत्सव में संस्कृति विभाग द्वारा दो दिन तक भगवान बुद्ध पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। महाबोधी महोत्सव में देश-विदेश से अलुयायियों का आना जारी है।

शाकिर अली खान हॉस्पिटल 100 बेडेड बनेगा

विभिन्न वार्डों में मरीजों की समस्या सुनते मंत्री विश्वास सारंग

विभिन्न वार्डों में मरीजों की समस्या सुनते मंत्री विश्वास सारंग

भोपाल : शुक्रवार, नवम्बर 24, 2017, सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने शाकिर अली खान गैस राहत हॉस्पिटल को 100 बेडेड करने के निर्देश दिए। उन्होंने हॉस्पिटल में सभी जरूरी उपकरण, सामग्री और पर्याप्त स्टाफ उपलब्ध कराने को कहा। राज्य मंत्री श्री सारंग ने आज हॉस्पिटल का निरीक्षण कर उक्त निर्देश दिए। संचालक गैस राहत श्री जी.के. तिवारी, डायरेक्टर गैस राहत हॉस्पिटल डॉ. बी.के. दुबे, अधीक्षक शाकिर अली खान, हॉस्पिटल डॉ. ए.के. तिवारी और अन्य अधिकारी एवं चिकित्सक निरीक्षण के दौरान राज्य मंत्री श्री सारंग के साथ थे सारंग ने हॉस्पिटल में मरीजों के पंजीयन, औषधि वितरण कक्ष, आकस्मिक चिकित्सा कक्ष, ओ.पी.डी. कक्ष, पेथालाजी और वार्डों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल में बेड बढ़ाने की क्षमता को ध्यान में रख इसे 90 बेड से बढ़ाकर 100 बेड का हास्पिटल बनाया जाये। उन्होंने हॉस्पिटल के सभी सेक्शन प्रभारी, चिकित्सक से अगले दो दिन में उनको जरूरी उपकरण, सामग्री और स्टाफ की चैक लिस्ट संचालक को सौंपने के निर्देश दिए ताकि इन उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। हॉस्पिटल में ऐनेस्थिया विशेषज्ञ की नियमित नियुक्ति नहीं होने पर राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि पेनल तैयार कर आज से ही आउटसोर्सिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने संचालक गैस राहत को हॉस्पिटल नर्सेस की तुरंत नियुक्ति में करने के निर्देश दिए।

नव-नियुक्त आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने किया कार्यभार ग्रहण

स्थानान्तरित आयुक्त जनसम्पर्क श्री अनुपम राजन ने नव-नियुक्त आयुक्त का स्वागत करते हुए उन्हें पदभार सौंपा।

स्थानान्तरित आयुक्त जनसम्पर्क श्री अनुपम राजन ने नव-नियुक्त आयुक्त का स्वागत करते हुए उन्हें पदभार सौंपा।

भोपाल,गुरूवार, नवम्बर 23, 2017, नव-नियुक्त आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने आज जनसम्पर्क संचालनालय में पदभार ग्रहण किया। स्थानान्तरित आयुक्त जनसम्पर्क श्री अनुपम राजन ने नव-नियुक्त आयुक्त का स्वागत करते हुए उन्हें पदभार सौंपा।  नव-नियुक्त आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने पदभार ग्रहण करने के पश्चात संचालनालय के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक ली। श्री नरहरि ने संचालनालय की विभिन्न शाखाओं का अवलोकन भी किया।

अपराधों पर नियंत्रण के लिये संभागवार रणनीति बनायें 
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आई.जी.-डी.आई.जी. कान्फ्रेंस में दिये निर्देश 

कांफ्रेंस में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

कांफ्रेंस में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, मंगलवार, नवम्बर 21, 2017, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिला अपराधों की रोकथाम के लिये संवेदनशीलता और तत्परता से कठोर कार्रवाई करें, जिससे अपराधियों में डर पैदा हो। अपराधों पर नियंत्रण के लिये संभागवार रणनीति बनायी जाये। साईबर अपराधों से निपटने के लिये जिला स्तर पर सुदृढ़ व्यवस्था करें। चिटफंड कंपनियों की धोखाधड़ी रोकने के लिये जागरूकता अभियान चलायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ पुलिस मुख्यालय में आई.जी.-डी.आई.जी. कान्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पुलिस हर चुनौती का सामना करने में खरी उतरी है। इसकी उपलब्धियाँ गर्व करने के लायक हैं। कानून व्यवस्था ऐसा क्षेत्र है जिसमें लगातार नई चुनौतियाँ सामने आती रहती हैं। जिस तेजी से तकनीक का विकास हो रहा है, उसी क्रम में अपराध के तरीके भी बदलते जा रहे हैं। साईबर क्राईम एक नई चुनौती के रूप में समाज में पनप रहा है। हमें इसे सख्ती से रोकना होगा। इसके लिये महिला छात्रावास, कॉलेज, स्कूल, कोचिंग सेंटर जैसे स्थानों पर लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जाये। श्री चौहान ने कहा कि बीट स्तर तक की टीम लगातार गश्त करें। क्षेत्र में पुलिस की प्रभावी उपस्थिति रहे। संसाधनों का उचित उपयोग कर लोगों में सुरक्षा का विश्वास पैदा करें।

संत कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद

कबीर सम्मान से सम्मानित करते महामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद

कबीर सम्मान से सम्मानित करते महामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद

भोपाल : शुक्रवार, नवम्बर 10, 2017, राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने कहा है कि संत कबीर ने अन्याय और आडम्बर से मुक्त समानता पर आधारित समाज का ताना-बाना बुना था। उनकी शिक्षा समाज के लिये संजीवनी है। वे गहरे अर्थों में निर्बल लोगों के पक्षधर थे। वे संत से बड़े समाज सुधारक थे। राष्ट्रपति श्री कोविंद आज यहाँ लाल परेड मैदान पर सदगुरू कबीर महोत्सव को संबोधित कर रहे थे।राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा है कि संत कबीर ने अंधविश्वास और पाखण्ड पर कठोर प्रहार किया था। संविधान में न्याय, समानता और बंधुत्व के आदर्श कबीर से प्रेरित है। संत कबीर मानव प्रेम के पक्षधर थे। संत कबीर की वाणी का उल्लेख गुरू नानक ने गुरू ग्रंथ साहिब में किया है। संत कबीर की शिक्षा समानता और समरसता की है। साहस के साथ अंध विश्वास को समाप्त करना ही निर्भीकता है। कबीर ने अपने जीवन में इसका उदाहरण प्रस्तुत किया था। उन्होंने आव्हान किया कि मानवता से प्रेम करने के आदर्श पर चलकर देहदान करें। मानव अंगों के दान से कई लोगों को जीवन मिल सकता है।

समावेशी और संवेदनशील सोच पर आधारित विकास  राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा कि संत कबीर के जीवन का मुख्य संदेश सबको समानता के साथ आगे बढ़ने का अवसर देना है। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार इसी दिशा में समावेशी विकास के लिये कार्य कर रही है। आर्थिक विकास में सफलतम प्रदेश मध्यप्रदेश में सबको विकास के अवसर उपलब्ध कराये गये हैं। प्रदेश की जीडीपी एक लाख करोड़ रूपये से बढ़ कर पाँच लाख करोड़ रूपये तक पहुँच गयी है। यह विकास समावेशी और संवेदनशील सोच पर आधारित है। इसी सोच से लाड़ली लक्ष्मी जैसी योजना बनी है। कृषि और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने उल्लेखनीय प्रगति की है। समाज के अंतिम व्यक्ति के विकास को ध्यान में रखकर योजनाएँ क्रियान्वित की जा रही हैं। संत कबीर का मध्यप्रदेश से गहरा नाता रहा है। प्रदेश के बाँधवगढ़ में उन्होंने लम्बा प्रवास किया था। वहाँ पर कबीर गुफा तीर्थ-स्थल है। मध्यप्रदेश की हर हिस्से की अपनी गौरव गाथा है। यहाँ साँची में बौद्ध स्तूप तथा अमरकंटक में प्रथम जैन तीर्थंकर श्री ऋषभदेव का मंदिर है। उज्जैन और ओंकारेश्वर में ज्योर्तिलिंग हैं। उज्जैन का सिंहस्थ कुंभ प्रसिद्ध है। मध्यप्रदेश की धरती ने संगीत सम्राट तानसेन, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शंकरदयाल शर्मा, पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी, नानाजी देशमुख, सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर और बाबा साहेब अंबेडकर जैसे अनगिनत रत्न पैदा किये है।

ऐतिहासिक बुरहानपुर ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ हस्ताक्षर महा-अभियान में रचा इतिहास

स्थानीय लोगों से हस्ताक्षर करवातीं मंत्री अर्चना चिटनिस

स्थानीय लोगों से हस्ताक्षर करवातीं मंत्री अर्चना चिटनिस

भोपाल : शनिवार, नवम्बर 4, 2017, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस की पहल पर ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ महा-अभियान अंतर्गत 3 नवम्बर को संपूर्ण बुरहानपुर जिले में आयोजित हस्ताक्षर महा-अभियान में जन-जन ने भाग लेकर एक नया इतिहास रच दिया। अभियान में महिलाएं, पुरुष, बच्चे, बुजुर्गों, युवक-युवतियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के लिए पहल करने का संदेश दिया। अभियान में 5 लाख हस्ताक्षर का लक्ष्य था, किन्तु बुरहानपुर में ऐतिहासिक उत्साह का प्रदर्शन करते हुए 6 लाख 53 हजार नागरिकों ने हस्ताक्षर किए जो कि निर्धारित लक्ष्य से लगभग डेढ़ लाख अधिक है।

महा-अभियान को लेकर पूरे जिले में सकारात्मक वातावरण पहले ही निर्मित हो चुका था। बेटियों-महिलाओं को पुरुषों की तुलना में कमतर बताने की सोच को बदलने, महिला-पुरुष समानता पर जिले में नुक्कड़ नाटक, निबंध, वाद-विवाद प्रतियोगिता, पोस्टर निर्माण, रैलियाँ, चित्रकला के माध्यम से लोगों को जोड़ा गया। शाला स्तर पर विशेष पैरेन्ट मीट आयोजित की गई। परिणामस्वरूप शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए बनाए गए केन्द्रों पर सुबह से ही भीड़ देखने को मिली। संपूर्ण जिले में उत्सव जैसा वातावरण रहा, सभी केन्द्रों पर लाउडस्पीकर के माध्यम से ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ विषय पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान एवं महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस के संदेशों के साथ बेटियों पर आधारित गीत भी प्रसारित किए जाते रहे।

मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बताया बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ महा-अभियान के तहत नागरिकों में जागरूकता लाने और बेटियों के प्रति नकारात्मक मनोवृत्ति बदलने के लिये विभिन्न स्थानों पर एक साथ हस्ताक्षर अभियान संचालित किया गया। यह महा-अभियान बेटी को दुनिया में आने देने, बेटी को पढ़ाने-बढ़ाने के लिये सही वातावरण देने के प्रति जन-सामान्य को संवेदनशील बनाने और समाज को इस दिशा में एकमत बनाने के लिये यह अभियान सबसे पहले बुरहानपुर में आरंभ किया गया। अभियान के अंतर्गत प्राप्त जन-सहभाहिगता के दस्तावेज राज्य शासन द्वारा भारत सरकार को सौंपे जाएंगे।

मप्र ने मनाया 62 वां स्थापना दिवस, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी प्रदेशवासियों को बधाई

समारोह में विभूतियों को सम्मानित करते मुख्यमंत्री

समारोह में विभूतियों को सम्मानित करते मुख्यमंत्री

1 NOV, 2017, भोपाल । लाल परेड मैदान पर मप्र स्थापना दिवस समारोह के आयोजन में मुख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों को बधाई दी।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मासूमों के साथ दुराचार की घटनाओं में कठोर सजा के लिये आगामी विधानसभा सत्र में जनसुरक्षा विधेयक लाया जायेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को फसलों का उचित मूल्य दिलाने के लिये सरकार ने भावांतर भुगतान योजना लागू की है। इससे किसानों को फसलों की उचित कीमत मिल रही है और उनके हितों की रक्षा हुई है। प्रदेश में न्यायसंगत व्यवस्था स्थापित हुई है। चौहान आज यहाँ मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्यस्तरीय समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह का आयोजन लाल परेड ग्राउंड में किया गया था। इस अवसर पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी साधना सिंह चौहान भी मौजूद थीं।

मुख्यमंत्री ने नागरिकों को प्रदेश के 62वें स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश गौरव पुरस्कार से रमाकांत-उमाकांत गुंदेजा बंधुओं, अमृतलाल बेगड़, सुश्री जनक पल्टा, हरचंदन सिंह भाटी को सम्मानित किया। समारोह में प्रसिद्ध कवि शैलेष लोढ़ा ने हास्यरस रचनाओं से श्रोताओं को आनंदित किया। शैलेन्द्र कृष्णा के निर्देशन में नृत्य नाटिका ‘श्रीकृष्ण’ की भावपूर्ण प्रस्तुति हुई जिसने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। पार्श्व गायिका सुश्री श्रेया घोषाल के मधुर गीतों ने वातावरण को संगीतमय बना दिया।

खादी प्रमोशन के लिये रेंप वाक करतीं मंत्री अर्चना चिटनिस

खादी प्रमोशन के लिये रेंप वाक करतीं मंत्री अर्चना चिटनिस

खादी को प्रोत्साहित करने मंत्री चिटनिस ने किया रेम्प वाक

29 Oct. 2017, भोपाल।  ‘खादी इण्डिया लाउंज’ के उद्धाटन समारोह में हुए फैशन शो में खादी को प्रोत्साहित करने के लिये महिला एवं बाल विकास मंत्री ने भी रेम्प वाक किया। केन्द्रीय खादी और ग्रामोद्योग आयोग द्वारा भोपाल में नया बिक्री केन्द्र ‘खादी इण्डिया लाउंज’ आरंभ किया गया है। कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री अंतर सिंह आर्य के विशिष्ट आतिथ्य में होने वाले कार्यक्रम का उद्घाटन केन्द्रीय खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष विनोद कुमार सक्सेना ने किया। समारोह में महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनिस भी शामिल हुई। दोनों मंत्रियों ने न केवल खादी वस्त्रों और हर्बल उत्पादों की प्रदर्शनी के साथ परिधान उत्सव (फैशन-शो) में खादी वस्त्रों की आकर्षक प्रस्तुति को देखा, बल्कि स्वयं भी खादी को बढ़ावा देने के लिए रैम्प पर  नजर आए।

अधिवेशन में हिस्सा लेते प्रवीण तोगड़िया

अधिवेशन में हिस्सा लेते प्रवीण तोगड़िया

बजरंगदल राष्ट्रीय अधिवेशन – 2017

29 Oct. 2017 भोपाल- बजरंगदल का राष्ट्रीय अधिवेशन 27, 29 अक्टूबर, 2017 को भोपाल में सम्पन्न हुआ। इस अधिवेशन में सम्पूर्ण देश से 1902 प्रतिनिधियों ने भाग लिया, पूज्य भारत माता की रज’ से तिलक कर भव्य भारत माता की आरती का कार्य सम्पन्न हुआ। देश के 27 प्रान्तों से एतिहासिक एवं पौराणिक स्थान की मिट्टी आयी। बैठक में तीन प्रस्ताव भी पारित हुए। (1) श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण (2) गौरक्षा (3) भारत की आन्तरिक सुरक्षा खतरें में है। इस अवसर पर मा0 दिनेश चन्द्र जी (संगठन महामंत्री विहिप) मा0 हुकुम चन्द्र सांवला जी, सुयुक्त महामंत्री डाँ. सुरेन्द्र जैन जी एवं मिलिन्द पराड़े जी उपस्थित रहें। अन्तिम दिन विशाल शोभायात्रा और सभा का आयोजन हुआ। देश भर से आए प्रतिनिधि उपने प्रदेश की पारंपरिक वेश-भूषा और वाद्ययंत्र के साथ शोभायात्रा में सम्मिलित हुए। शोभायात्रा के समापन पर विशाल सभा का अयोजन हुआ जिसमें मुख्यवक्ता डाँ. प्रवीणभाई तोगड़िया जी तथा आर्शीवचन पूं0 जितेन्द्र जी महाराज (पीठाधीश्वर देवनाथ पीठ) का प्राप्त हुआ।

शीतलदास की बगिया पर डूबते सूरज को अर्ध्य देकर पूजा शुरु करतीं उपासी महिलाएें

शीतलदास की बगिया पर डूबते सूरज को अर्ध्य देकर पूजा शुरु करतीं उपासी महिलाएें

शीतलदास की बगिया पर छठ पूजा समारोह

26 Oct. 2017 भोपाल। राजधानी में कई स्थानों पर छठ महापर्व पर भोजपुरी समाज की महिलाओं द्वारा पूजा-अर्चना की गई। शीतलदास की बगिया घाट पर भोजपुरी एकता मंच द्वारा पूजा समारोह में पूर्व सैनिकों का सम्मान किया गया। वहीं, विभिन्न धर्मों के गुरुओं के सानिध्य में 5001 दीये बड़े तालाब में छोड़े गए। नावों में सवार कार्यकर्ताओं ने रंगारंग आसमानी आतिशबाजी भी की।

समारोह को संबोधित करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

समारोह को संबोधित करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल के शौर्य स्मारक में लगेगी भारत माता की प्रतिमा: CM शिवराज

 16 Oct. 2018, भोपाल: मध्यप्रदेश की राजधानी के शौर्य स्मारक में भारत माता की प्रतिमा स्थापित की जाएगी। यह ऐलान सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्मारक के प्रथम वर्षगांठ के समापन समारोह में किया। चौहान ने आगे कहा, “प्रदेश में अद्भुत वीर भारत स्मारक बनाया जाएगा, जिसमें सम्राट चंद्रगुप्त से लेकर वर्तमान तक के वीरों का चित्रण किया जाएगा।”

इस अवसर पर प्रमुख सचिव संस्कृति मनोज श्रीवास्तव ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने बताया कि विगत एक वर्ष में ग्यारह लाख देशी-विदेशी पर्यटकों ने शौर्य स्मारक का अवलोकन किया है।

गौहर महल में दीपोत्सव मेला 13 Oct. 2018, भोपाल। गौहर महल में हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम की ओर से चल रहे दीपोत्सव मेले में विगत दिवसमोम से भरी 2018 दीयों की रंगोली बनाई गई। करीब 100 लोगों ने मिलकर 2018 दीये और करीब एक क्विंटल फूलों से 20×20 की जगह पर रंगोली को 6 घंटे में तैयार किया है। उल्लेलखनीय है कि यह रंगोली साल 2011 से लगातार बनाई जा रही है। दीपोत्सव का 16 अक्टूबर को होगा समापन।

13 Oct. 2018, भोपाल। गौहर महल में हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम की ओर से चल रहे दीपोत्सव मेले में विगत दिवसमोम से भरी 2018 दीयों की रंगोली बनाई गई। करीब 100 लोगों ने मिलकर 2018 दीये और करीब एक क्विंटल फूलों से 20×20 की जगह पर रंगोली को 6 घंटे में तैयार किया है। उल्लेलखनीय है कि यह रंगोली साल 2011 से लगातार बनाई जा रही है। दीपोत्सव का 16 अक्टूबर को होगा समापन।

कार्यक्रम के दौरान एक बेटी का अभिनंदन करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

कार्यक्रम के दौरान एक बेटी का अभिनंदन करते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

बेटियों की निरंतर पढ़ाई की व्यवस्था के लिये मध्यप्रदेश में कानून बनेगा

 12 Oct. 2018,भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लाड़ली लक्ष्मी बेटियों की निरंतर पढ़ाई की व्यवस्था के लिये कानून बनाया जाएगा। बेटियाँ पृथ्वी पर ईश्वर का सबसे बड़ा उपहार हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर लाड़ली शिक्षा पर्व के छात्रवृत्ति वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस उपस्थित थीं। प्रदेशभर में आज 65 हजार लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को छात्रवृत्ति वितरित की गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटियों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था की जाएगी। आज मध्यप्रदेश में 26 लाख 30 हजार लाड़ली लक्ष्मी बेटियाँ हैं। इनके 21 वर्ष के होने पर उनके परिवारों को 31 हजार करोड़ रुपये मिलेंगे। लाड़ली लक्ष्मी योजना में बेटियों के लिये छात्रवृत्ति की व्यवस्था की गई है। प्रदेश की बेटियों को 12वीं कक्षा में 85 प्रतिशत लाने पर लेपटॉप और कॉलेज में प्रवेश लेने पर स्मार्ट फोन दिया जाता है। कक्षा 12 की परीक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने के बाद महाविद्यालय में प्रवेश लेने पर उनकी फीस मेधावी विद्यार्थी योजना से भरी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कक्षा 6वीं में प्रवेश लेने वाली लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को प्रतीक स्वरूप छात्रवृत्ति के प्रमाण-पत्र वितरित किये। स्वागत भाषण आरंभ में महिला-बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया ने दिया। कार्यक्रम में राज्य बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री मनमोहन नागर और मुख्यमंत्री की पत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान सहित बड़ी संख्या में योजना से लाभान्वित बेटियाँ और उनके माता-पिता उपस्थित थे। आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्रीमती जयश्री कियावत ने आभार माना।

हाथ हिलाकर अपने फेंस का अभिनंदन करते अमिताभ और जया

हाथ हिलाकर अपने फेंस का अभिनंदन करते अमिताभ और जया

मैं आप सबका, यानी भोपाल का जमाई हूं.अमिताभ बच्चन

06 oct 2018- अमिताभ बच्चन शुक्रवार को मध्यप्रदेश की राजधानी पहुंचने पर भावुक हो उठे. उन्होंने यहां के अपने फैन्‍स से कहा, ‘मैं आप सबका, यानी भोपाल का जमाई हूं.’ एक ज्वेलर्स कंपनी के शोरूम के उद्घाटन कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए अमिताभ बच्चन के साथ उनकी पत्नी जया बच्चन भी थीं. अमिताभ बच्चन ने अपने उद्बोधन की शुरुआत करते हुए कहा, ‘मैं अमिताभ बच्चन आपका जमाई, भोपाल आते ही लगता है कि घर (ससुराल) आ गया हूं. कई बार आना-जाना हुआ है, कई फिल्मों की शूटिंग भी यहां की है. यहां बताना लाजिमी होगा कि अमिताभ बच्चन की ससुराल भोपाल में ही है. इस लिहाज से वे यहां के जमाई (दामाद) हुए. उन्हें देखने बड़ी संख्या में प्रशंसकों की भीड़ उमड़ी रही. उन्होंने आगे कहा, ‘आप सबका स्नेह और प्यार मिला है, आपका जो स्नेह हमारे परिवार को मिला है, वह दिल को छू जाता है. हम आपके स्नेह का स्मरण लोग करते रहते हैं, यही कारण है कि भोपाल आने का बार-बार मन करता है.’

अपना उद्बोधन देते मुख्य वक्ता संबित पात्रा

अपना उद्बोधन देते मुख्य वक्ता संबित पात्रा

कांग्रेस के लिए राष्ट्रहित से पहले वोट बैंक : पात्रा

5 oct. 2018, भोपाल। सरोकार समिति के अध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संबित पात्रा भोपाल स्थित पलाश होटल में “राष्ट्रीय सुरक्षा एवं मानवता” कार्यक्रम में संवाद कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे।इस अवसर पर संबित पात्रा ने कहा कि राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य,आतंकवाद और रोहिंग्या घुसपैठ जैसे विभिन्न प्रकार के संघर्षों से घिरा हुआ है।  इन संघर्षों के चलते भारत सहित वैश्विक मानवता को गंभीर खतरे पैदा हो गये हैं। इन परिस्थितियों में सामाजिक चेतना जागृति के द्वारा निश्चित ही विश्व को विभीषिका से बचाया जा सकता है।आज राहुल गांधी,दिग्विजय सिंह और औवेशी को छोड़कर सबको लगता है कि रोहिंग्या मुसलमान खतरनाक हैं।  सरोकार समिति के अध्यक्ष व भाजपा प्रदेश प्रवक्ता राहुल कोठारी ने कहा कि बांग्लादेश, चीन, म्यांमार ने रोहिंग्याओं को खतरा बताया है। भारत के इंटेलीजेंस, आर्मी ने भी इन्हें खतरा बताया है। मेजर जनरल सिन्हो ने कहा कि मानवता जरूरी है, लेकिन भावनाओं में बहकर निर्णय लेना राष्ट्र की सुरक्षा के लिए खतरा बन सकता है। सालों पहले भारत ने 90 हजार लोगों को यूं ही छोड़ दिया था। भावनाओं में नहीं बहते तो आज पाकिस्तान इतनी चुनौती नहीं बनता। कार्यक्रम में भोपाल के सांसद आलोक संजर, समिति के सचिव विभांशु जोशी एवं कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

3 Sep. 2017

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के प्रारम्भ में तीर्थ-यात्रियों के सम्मान में प्रतीक स्वरूप तीर्थ-यात्रियों को सम्मानित किया, उनसे चर्चा कर योजना के अनुभवों की जानकारी ली।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के प्रारम्भ में तीर्थ-यात्रियों के सम्मान में प्रतीक स्वरूप तीर्थ-यात्रियों को सम्मानित किया, उनसे चर्चा कर योजना के अनुभवों की जानकारी ली।

तीर्थों के दर्शन का पुन: अवसर मिलेगा

भोपाल : रविवार, सितम्बर 3, 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि तीर्थ-दर्शन यात्रा के 5 वर्ष पूरे करने वाले यात्रियों को तीर्थ-दर्शन का पुन: अवसर मिलेगा। योजना में प्रति वर्ष दो लाख श्रद्धालुओं को तीर्थ-दर्शन करवाया जाएगा। रेलगाड़ियों की संख्या आवश्यकता अनुसार बढ़ाई जाएगी। तीर्थ-यात्रियों को यात्रा के दौरान आवश्यक वस्तुओं का किट दिया जाएगा। गंतव्य तीर्थ के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक महत्व की जानकारियों का ब्रोशर मिलेगा। तीर्थ-यात्राओं के रूट में प्रमुख तीर्थ के साथ निकटवर्ती तीर्थों को भी संयोजित किया जाएगा। पैकेज बनाकर यात्राओं का आयोजन किया जाएगा। विधायक यदि श्रद्धालुओं के साथ तीर्थ यात्रा पर जाना चाहेंगे तो, उन्हें यात्रा में सम्मिलित किया जाएगा। धर्माचार्यों के साथ चर्चा कर और तीर्थों को भी शामिल किया जाएगा। श्री चौहान आज यहाँ रवीन्द्र भवन के मुक्ताकाश में मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना के 5 वर्षों की पूर्णता पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने समयानुसार सुविधाओं की दृष्टि से यात्रा को और अधिक बेहतर बनाने के लिए विचार-विनिमय कर आवश्यक बदलाव करने के निर्देश दिये।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तीर्थ-दर्शन योजना का उद्देश्य बुजुर्गों को भक्ति के आनंद के अवसर उपलब्ध कराना है। तीर्थ स्थान धर्म के केन्द्र हैं। यहाँ मन और बुद्धि पवित्र होती है। सद्कर्मों की प्रेरणा मिलती है। तीर्थ-दर्शन से मिलने वाला सुख किसी भी सांसारिक सुख से नहीं मिलता है। इसीलिए मुख्यमंत्री निवास में सभी धर्मों के पर्व धूमधाम से मनाए जाते हैं। धर्म से ही सच्चा आनंद मिलता है। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों का सम्मान भारतीय संस्कृति का मूल है।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के प्रारम्भ में तीर्थ-यात्रियों के सम्मान में प्रतीक स्वरूप 5-5 बुजुर्ग महिला-पुरूष तीर्थ-यात्रियों को पुष्प-गुच्छ भेंटकर सम्मानित किया, उनसे चर्चा कर योजना के अनुभवों की जानकारी ली। योजना के सफल संचालन के लिए विभाग को बधाई दी।
धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्रीमती यशोधराराजे सिंधिया ने बताया कि 5 वर्षों की योजना अवधि में 5 लाख 3 हजार बुजुर्गों ने तीर्थ-दर्शन किये हैं। तीर्थों के दर्शन के लिए 503 रेल यात्राओं का आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि जिन्होंने कभी तीर्थों के दर्शन की कल्पना भी नहीं की थी, उनको तीर्थों के दर्शन करवा कर प्रदेश सरकार बुजुर्ग माता-पिता के लिए श्रवण कुमार का कार्य कर रही है।
महंत श्री चन्द्रमा दास ने कहा कि तीर्थ-दर्शन की इच्छा हर व्यक्ति की होती है। साधन विहीनों को तीर्थ-यात्रा करवाने का सरकार का प्रयास सराहनीय है। उन्होंने सरकार की पहल के लिए सभी धर्मगुरूओं की ओर से आभार ज्ञापित किया।
कार्यक्रम के प्रारंभ में मध्यप्रदेश गान का गायन हुआ। समारोह में सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, सांसद श्री आलोक संजर, महापौर श्री आलोक शर्मा, विधायक सर्वश्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, विष्णु खत्री, रामेश्वर शर्मा एवं श्री बृजेश लूणावत, सभी धर्मों के धर्मगुरू और योजना अंतर्गत तीर्थ-यात्रा कर चुके वरिष्ठ नागरिक उपस्थित थे।
शोषण न हो, नर्मदा से उतनी रेत लें जितना जरूरत हो: CM

8 May 2017

शोषण न हो, नर्मदा से उतनी रेत लें जितना जरूरत हो: CM

शोषण न हो, नर्मदा से उतनी रेत लें जितना जरूरत हो: CM

96 एक्सपर्ट नर्मदा एक्शन प्लान बनाने के लिए एकजुट

प्रसं, भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नर्मदा से अब केवल उतनी ही रेत का खनन किया जाएगा जितनी जरूरी है। उन्होंने कहा कि हम नदियों का दोहन करें, शोषण नहीं। आज प्रशासन अकादमी में नर्मदा एक्शन प्लान और जल संरक्षण पर आयोजित राष्टÑीय कार्यशाला में उन्होंने कहा कि नदियों से रेत निकालना जरूरी है पर उतनी जितने में पर्यावरण संतुलन बना रहे। इस कार्यशाला में  देश विदेश के 96 जल विशेषज्ञ समेत कई पर्याविद् हिस्सा ले रहे हैं। सीएम ने कहा कि जल सम्मेलन कोई राजनीतिक कर्मकांड नही है। इसे सामाजिक आंदोलन बनाना है। उन्होंने कहा कि धरती पर अब तीस फीसदी जल ही बचा है। यह हमारे लिए चिंता का बिषय है। सीएम ने नर्मदा यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि जब तक उनके शरीर में सांसों की डोर है तब तक नर्मदा सेवा और जल संरक्षण का काम चलता रहेगा। सीएम ने कहा कि नर्मदा के साथ-साथ प्रदेश की अन्य नदियों के संरक्षण पर भी कार्ययोजना तैयार की जाएगी। केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री अनिल दबे ने कहा कि नर्मदा नदी उनके लिए सब कुछ है। यह काम बहुत बड़ा है। उन्होंने इस काम के लिए सीएम की तारीफ करते हुए कहा कि वे नर्मदा के शुद्धिकरण को सामाजिक आंदोलन बनाने में लगे हैं। कार्यक्रम में एनजीटी के जस्टिस ज्ञान सिंह समेत सामाजिक क्षेत्रों से जुड़े कई विद्वान भी मौजूद थे।

नीर, नारी और नदी पर करें फोकस

राजेंद्र सिंह ने कहा कि नीर,नारी और नदी ये तीन शब्द है। इन पर फोकस करने की जरुरत है। समाज किसे अपना काम माने यह राज्य सरकार के मैन्युअल में है या नहीं यह देखना होगा।  राज समाज औरा संत ने अभी भूमिका बांध रखी है। लेकिन आजकल संत अपने काम को भूल गए है। लेकिन खुशी है कि एमपी की सरकार ने संतो का काम भी किया।

11 April 2017

पांचवीं एशियन स्कूल हॉकी चैंपियनशिप

पांचवीं एशियन स्कूल हॉकी चैंपियनशिप

पांचवीं एशियन स्कूल हॉकी चैंपियनशिप

भोपाल। अलीशान मोहम्मद और प्रताप लाकड़ा के दो-दो गोल की बदौलत भारत ने पांचवीं एशियाई स्कूल चैम्पियनशिप के फाइनल में मंगलवार को यहां मलेशिया को 5-1 से हराकर खिताब जीता।

अलीशान ने टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए 12वें मिनट में भारत को बढ़त दिलाई। लाकड़ा ने इसके बाद 20वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर और 23वें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक को गोल में बदलकर भारत को 3-0 से आगे किया।

मलेशिया ने 32वें मिनट में अकीमुल्लाह अनुआर एसुक एम के मैदानी गोल की बदौलत स्कोर 1-3 किया लेकिन अलीशान ने 34वें मिनट में एक और गोल करके मध्यांतर तक भारत को 4-1 से आगे कर दिया।

मनिंदर सिंह ने 38वें मिनट में एक और गोल दागकर भारत को 5-1 से आगे किया जो निर्णायक स्कोर साबित हुआ। मलेशिया को दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ा।
सिंगापुर ने चीन को शूटआउट में 3-1 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया। निर्धारित समय के बाद दोनों टीमें 1-1 से बराबर थी।

14 Jan. 2017

सूर्य देव आज से हुए उत्तरायण

सूर्य देव आज से हुए उत्तरायण

शनिवार को मकर सक्रांति का महा महत्व
ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाते हैं। चूँकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, अत: इस दिन को मकर संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है।
आज सूर्य और उनके पुत्र शनि को पूजा द्वारा एक साथ खुश किया जा सकता है। इसलिये आज इसका महत्व कई गुना बड़ जाता है।
मकर संक्रान्ति हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। मकर संक्रान्ति पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। इसी दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। मकर संक्रान्ति के दिन से ही सूर्य की उत्तरायण गति भी प्रारम्भ होती है। इसलिये इस पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायणी भी कहते हैं। तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं।
विभिन्न नाम
• मकर संक्रान्ति : छत्तीसगढ़, गोआ, ओड़ीसा, हरियाणा, बिहार, झारखण्ड, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, राजस्थान, सिक्किम, उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड, बिहार, पश्चिम बंगाल, और जम्मू
• ताइ पोंगल, उझवर तिरुनल : तमिलनाडु
• उत्तरायण : गुजरात, उत्तराखण्ड
• माघी : हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब
• भोगाली बिहु : असम
• शिशुर सेंक्रात : कश्मीर घाटी
• खिचड़ी : उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार
• पौष संक्रान्ति : पश्चिम बंगाल
• मकर संक्रमण : कर्नाटक
• बांग्लादेश : Shakrain/ पौष संक्रान्ति
• नेपाल : माघे सङ्क्रान्ति या ‘माघी सङ्क्रान्ति’ ‘खिचड़ी सङ्क्रान्ति’
• थाईलैण्ड : สงกรานต์ सोङ्गकरन
• लाओस : पि मा लाओ
• म्यांमार : थिङ्यान
• कम्बोडिया : मोहा संगक्रान
• श्री लंका : पोंगल, उझवर तिरुनलमकर
संक्रान्ति का ऐतिहासिक महत्व
ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाते हैं। चूँकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, अत: इस दिन को मकर संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है। महाभारत काल में भीष्म पितामह ने अपनी देह त्यागने के लिये मकर संक्रान्ति का ही चयन किया था। मकर संक्रान्ति के दिन ही गंगाजी भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई सागर में जाकर मिली थीं।

29 Nov. 2016

आंगन में घूम रहा शेर, दहशत में ग्रामीण

देवेंद्र दुबे, भोपाल

राजधानी के समीप स्थित प्रसिद्ध जैन तीर्थ समसगढ़ और उससे लगे गांवों में दो शेरों की दहशत बनी हुई है। पिछले एक सप्ताह से लगातार ये शेर उनके घरों के आंगन तक पहुंच रहे हैं और मवेशियों को अपना शिकार बना रहे हैं। लगभग छह दिन पहले भानपुरा निवासी भूरे खां के घर के बाहर बंधे मवेशियों पर एक बाघ हमला करने पहुंचा। मवेशियों के चिल्लाने की आवाज सुनकर बाघ वापस लौट गया। इसके बाद 26 तारीख की रात को लगभग 9 बजे इश्तियाक ने अपने घर के बाहर बंधी गाय के चिल्लाने की आवाज सुनी तो बाहर आकर देखा कि बाघ उनसे लगभग 100 फीट की दूरी पर खड़ा था। परिवार के अन्य लोगों के चिल्लाने के बाद बाघ वापस लौट गया। इसी रात को लगभग 11 बजे आगे दिनेश मारण के खेत पर जाकर उसने एक बछिया पर हमला किया। इसमें बछिया बुरी तरह घायल हो गई। खेत के चौकीदार जंगल सिंह के शोर मचाने पर बाघ उसे अधमरा छोड़कर चला गया। अगले दिन 27 तारीख की रात को जब चौकीदार अपने कबेलू के छप्पर वाले घर में सो रहा था तो रात लगभग साढे़ आठ बजे उसे छप्पर टूटने और कबेलुओं पर चलने की आवाज आई। उसने बताया कि उसी घर के दूसरे कमरे में उसने घायल बछिया को रखा था, जिसे ढूंढता हुआ शेर मकान के उपर चड़ गया। बुरी तरह घबराया हुआ चौकीदार चिल्लाने लगा तो शेर लौट गया। शेर की इस ऱुफवाकिंग में कई जगह से टीन और कबेलू टूट गए। चौकीदार का कहना है कि पहले बाघ ने दरवाजे पर पंजे मारे फिर छत पर चड़ा। घायल बछिया ने देर रात दम तोड़ दिया जिसे सुबह वन विभाग के अमले ने आकर दाह संसकार करवा दिया। इसके बाद सोमवार शाम को लगभग 6 बजे ही बाघ फिर मज्जू खां के मवेशियों पर हमला करने आ पहुंचा। ग्रामीणों के शोर के बाद वह चला गया और लगभग साढ़े सात बजे फिर घर के पास ही आकर बैठ गया। लगभग आधे घंटे के बाद वो वापस झाडि़यों में चला गया। देर रात तक सभी ग्रामीण टार्च और डंडों के सहारे पहरा देते रहे। ग्रामीणों को कहना है कि कभी कभी बाघ सुबह सुबह भी खेतों के आसपास नजर आ रहा है। डर के कारण ग्रामीणों ने रात को खेतों में पानी देना भी बंद कर दिया है। कुछ खेतों में लोग मचान बनाकर सुरक्षा कर रहे हैं। मज्जू भाई की माता जी का कहना है कि वे लोग बरसों से यहां निवास कर रहे हैं और पास के जंगल में शेर भी नए नहीं हैं लेकिन ये पहली बार घरों में घुसकर मवेशियों का शिकार कर रहे हैं।  वन अधिकारियों का कहना है कि इस क्षेत्र में बाघ टी 1 और उसके जवान बेटे टी 122 का मूवमेंट है। इनको गांव से दूर करने  की कार्ययोजना भी बनाई जा रही है। ग्रामीणों को भी देर रात घर से न निकलने की सलाह दी गई है।

अपने घर में घुसे शेर के बारे में बताते इश्तियाक

अपने घर में घुसे शेर के बारे में बताते इश्तियाक

यहां से झांक रहा था शेर-- छत पर घूमते बाघ के बारे में बताते चौकीदार जंगल सिंह

यहां से झांक रहा था शेर–
छत पर घूमते बाघ के बारे में बताते चौकीदार जंगल सिंह

खटखटाया दरवाजा-- दरवाजे पर शेर की खरोंच के निशान दिखाते दिनेश मारण

खटखटाया दरवाजा–
दरवाजे पर शेर की खरोंच के निशान दिखाते दिनेश मारण

पहरेदारी-- देर रात हथियार और टार्च लेकर पहरेदारी करते ग्रामीण

पहरेदारी–
देर रात हथियार और टार्च लेकर पहरेदारी करते ग्रामीण

15 Nov 2016

कलियासोत में नजर आया विलुप्त प्रजाती का इजिप्शियन वल्चर(गिद्ध)
देवेंद्र दुबे, भोपाल।
कलियासोत डेम क्षेत्र में विलुप्त प्राय गिद्ध इजिप्शियन वल्चर दिखाई दे रहा है। अन्य गिद्धों की तुलना में यह आकार में छोटा होता है। इसकी खूबसूरत पीली चोंच इसको आकर्षक बनाती है। हालांकि यह अन्य गिद्धों की तरह मृतोपजीवी है लेकिन यह छोटे पक्षियों का शिकार भी करता है और उनके अंडे भी खाता है। इसे समझदार पक्षियों की श्रेणी में रखा जाता है क्योंकि यह दूसरे पक्षियों के अंडे तोड़ने के लिये कंकड़ों का प्रयोग करता है। अपना घोंसला बनाने के लिये यह टहनियों में उन को लपेटता है।
यह इकोसिस्टम में महत्वपूर्ण रोल निभाता है इसलिये इनका दिखना पर्यावरणीय दृष्टि से महत्वपूर्ण है। यह दक्षिणी यूरोप से मध्य एशिया, भारतीय उपमहाद्वीप में बहुतायत में पाया जाता था, लेकिन केमिकल पाईसनिंग और मानव द्वारा शिकार के कारण यह अब विलुप्त होने की कगार पर है।

कलियासोत में नजर आया विलुप्त प्रजाती का इजिप्शियन वल्चर(गिद्ध)

कलियासोत में नजर आया विलुप्त प्रजाती का इजिप्शियन वल्चर(गिद्ध)

कलियासोत में नजर आया विलुप्त प्रजाती का इजिप्शियन वल्चर(गिद्ध)

कलियासोत में नजर आया विलुप्त प्रजाती का इजिप्शियन वल्चर(गिद्ध)

10 July 2016

बाढ़ से निपटने के लिये सिंहस्थ में अपनी सेवाएँ देने वाले प्रशिक्षित होमगार्ड के जवानों को फिर से काम पर रखें- मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान
भोपाल, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में अतिवृष्ठि से उत्पन्न बाढ़ की समीक्षा की। जिसमें उन्होंने अधिकारियों को निम्न निर्देश दिये।
-अति वृष्टि से प्रभावित क्षेत्र का सर्वे कर नुकसानी का आंकलन कर राहत राशि मुहैया कराई जाए।
-लोक स्वास्थ्य और स्थानीय शासन विभाग को युद्ध स्तर पर बीमारियों पर नियंत्रण, जरूरी दवाईयों की व्यवस्था तथा शुद्ध पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश
-कंट्रोल रूम 24 घंटे कार्यरत रहने तथा लोगों के फोन आने पर त्वरित जरूरी कार्रवाई करने के निर्देश
– सिंहस्थ में अपनी सेवाएँ देने वाले प्रशिक्षित होमगार्ड के जवानों को फिर से काम पर रखने के निर्देश ताकि बाढ़ और अति वृष्टि की परिस्थितियों से कारगर ढंग से निपटने में उनकी सेवाएँ ली जा सकें।
-नदी-नालों के किनारे बने वाटर फिल्टर प्लांट को हमेशा खतरे के निशान से ऊपर स्थापित करने के निर्देश
– जिन गरीब लोगों का अनाज और राशन सामग्री वर्षा से खराब हो गयी है, उन्हें सस्ता अनाज उपलब्ध करवाया जाये
-बैठक में राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, मुख्य सचिव अन्टोनी डिसा, पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला, पुलिस महानिदेशक आपदा प्रबंधन मैथिलीशरण गुप्त, अपर मुख्य सचिव गृह बी.पी.सिंह, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी रजनीश वैश्य, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन राधेश्याम जुलानिया, प्रमुख सचिव राजस्व के.के.सिंह, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री इकबाल सिंह बैंस एवं एस.के. मिश्रा, प्रमुख सचिव नगरीय विकास मलय श्रीवास्तव और सचिव मुख्यमंत्री विवेक अग्रवाल उपस्थित थे।

अधिकारियों के साथ बाढ़ की समीक्षा करते मुख्यमंत्री

अधिकारियों के साथ बाढ़ की समीक्षा करते मुख्यमंत्री

03 July 2016

दोपहर को छाई काली घटाएं छाया अंधेरा
भोपाल(तुसं) राजधानी में रविवार सुबह से ही रिमझिम बारिश का दौर चल रहा है। कुछ मिनिटों के लिये बारिश तेज भी हो रही है। सुबह सुबह बारिश ने लोगों को खूब भिगोया। सुबह से ही बादल राजधानी को घेरे हुए हैं। दोपहर लगभग 1 बजे अचानक गहरी काली घटाओं ने दोपहर में ही अंधेरा सा कर दिया। लेकिन ये बादल हल्के फुल्के बरस कर चले गए और फिर मौसम सामान्य हो गया। अगले 24 घंटों में भी बारिश का पूर्वानुमान है। लेकिन अच्छी बारिश का अभी भी इंतजार है।

दोपहर को छाई काली घटाओं से हुआ अंधेरा। राजा भोज की प्रतिमा के पीछे राजधानी पर छाए काले बादलों का यह छायाचित्र रविवार दोपहर 1.30 बजे क्लिक किया है

दोपहर को छाई काली घटाओं से हुआ अंधेरा। राजा भोज की प्रतिमा के पीछे राजधानी पर छाए काले बादलों का यह छायाचित्र रविवार दोपहर 1.30 बजे क्लिक किया है

बारिश में भी जलसंकट– 

भोपाल(तुसं)। कोलार पाईप लाईन से सटी हुई कोलार रोड की  अनेकों कालोनियों के रहवासी साल भर जलसंकट से जूझते हैं। अनेक स्थानों पर जलस्रोत अच्छी बारिश के बाद भी रीचार्ज नहीं होते हैं। हजारों रहवासी सालभर टेंकर के पानी पर निर्भर रहते हैं। गर्मी में स्थिति और बुरी हो जाती है जब जलस्तर और नीचे चला जाता है। हालांकि सरकार ने जल्द ही केरवा से पानी लाने का वादा किया है। इसका काम भी प्रारंभ हो चुका है लेकिन कोलार वासियों को कब इस सालाना सूखे से निजात मिलेगी, ये अभी देखना है। अनियोजित और अनियंत्रित तरीके से बसे नगर के दुष्परिणाम देखने के लिये कोलार रोड सटीक उदाहरण है। अब यह क्षेत्र नगर निगम भोपाल के हाथों में है, देखते हैं भोपाल के साथ साथ यह क्षेत्र कब तक स्मार्ट बनेगा।

रविवार सुबह तेज बारिश के दौरान पानी ढोते लोग

रविवार सुबह तेज बारिश के दौरान पानी ढोते लोग

रविवार सुबह तेज बारिश के दौरान पानी ढोते लोग

रविवार सुबह तेज बारिश के दौरान पानी ढोते लोग

तेज बारिश में भीगे, लोग सड़कों पर भी भरा पानी

तेज बारिश में भीगे, लोग सड़कों पर भी भरा पानी

 

 

One thought on “Bhopal News Today

  1. sunil parashar says:

    bahut badhiya dubey ji aap ka prayas sarahniya hai aap jaise patrakar is samaj ko acchi aur sacchi khabro se lagatar rubru karwate rahenge aasha hai khabro ke alawa jan samasyo ko bhi aap sarkar taq pahuchane ka prayas kare . punah badhai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title="" rel=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>